Last Updated: 28 Oct 2020 08:30 PM

dailynews360

  • त्योहारी सीजन में काबू में आ रहा है कोरोना, सामने आ रही है अच्छी रिपोर्ट, जानिए कैसे


    देश में 24 घंटों में कोरोनावायरस के 43,893 नए मामले सामने आने और 508 मौतों के साथ कुल मामलों की संख्या 79,90,322 हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि कोरोना के दैनिक मामलों के साथ-साथ मौतों में भी कमी हुई है।कुल मामलों में से वर्तमान में 6,10,803 मामले सक्रिय हैं, जबकि 72,59,509 को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। वहीं, 1,20,010 लोग इस बीमारी की वजह से जान गंवा चुके हैं। 26 अक्टूबर को, एक एक दिन में हुई मौतों की संख्या 480 थी, जो हाल के दिनों में सबसे कम थी। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों ने दर्शाया कि जहां रिकवरी दर 90.85 प्रतिशत है, वहीं मृत्यु दर 1.50 प्रतिशत है।मंत्रालय ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, ‘‘एक ऐतिहासिक उपलब्धि का संकेत देते हुए भारत ने पिछले पांच सप्ताह में औसत दैनिक नए कोविड-19 मामलों में निरंतर गिरावट दर्ज की है।’’ ट्वीट के साथ अटैच एक ग्राफ ने 23 सितंबर से 29 सितंबर के बीच 83,232 मामलों के साथ वृद्धि दिखाया जो 21 अक्टूबर से 27 अक्टूबर के बीच घटकर 49,909 हो गया।महाराष्ट्र कुल 16,54,028 मामलों और 43,463 मौतों के साथ सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बना हुआ है। इसके बाद आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और दिल्ली का स्थान है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के आंकड़ों के अनुसार, भारत ने मंगलवार को एक ही दिन में 10,66,786 नमूनों के परीक्षण किए, अब तक 10,54,87,680 नमूनों की जांच की जा चुकी है।

  • बिहार चुनाव में LJP उम्मीदवार पर अभिनेत्री अमीषा पटेल ने लगाया रेप का आरोप


    बिहार विधानसभा चुनाव के दौर में सभी पार्टियां प्रचार प्रसार में लगी हुई है। पीएम नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी भी आमने सामने हैं। पक्ष विपक्ष की जुबानी जंग में लोजपा (LJP) के सांसद चिराग पासवान का हैरान कर देने वाला शूटिंग वाला वीडियो वायरल हो रहा है। इसी के साथ बॉलीवुड अभिनेत्री अमिषा पटेल ने लोजपा (LJP) के एक उम्मीदवार पर गंभीर लगाया है। अभिनेत्री अमिषा पटेल का ऑडियो सामने आया है जिसमें ऑडियो में बोलनी वाली महिला खुद को बॉलीवुड एक्ट्रेिस अमीषा पटेल बता रही है। ऑडियो में महिला कह रही है कि उनके साथ रेप करने की कोशिश की गई थी। पिछले दिनों 26 अक्टूबर को फिल्म स्टार अमीषा पटेल औरंगबाद के ओबरा विधानसभा से LJP उम्मीदवार डॉ. प्रकाश चंद्रा के समर्थन में प्रचार के लिए आई थी। LJP के प्रत्याशी डॉ. प्रकाश चंद्रा के समर्थन में रोड शो भी किया था। इसके बाद अब इस ऑडियो के द्वारा अमीषा पटेल ने कह रही है कि LJP के प्रत्याशी डॉ. प्रकाश चंद्रा एक नम्बर के झूठे, ब्लैकमेलर और गंदे इंसान हैं। इन्होंने प्रचार के दौरान मुझे बहुत परेशान किया और काफी अश्लील हरकतें भी की। इस कारण से मैं इतनी डरी सहमी थी कि मैंने अगले दिन सुबह की फ्लाइट ली और मुंबई आ गई। यह ऑडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

  • मुर्गे ने किया पुलिस अधिकारी का मर्डर, देखते रह गए साथी, जानिए कहां हुई ये सनसनीखेज वारदात


    फिलीपीन्स में मुर्गों की लड़ाई की सूचना पर कार्रवाई करने गए पुलिस अधिकारी की मुर्गे के हमले में मौत हो गई। मुर्गे के पैर में ब्लेड लगे थे और उससे पुलिस अधिकारी के पैर की धमनी कट गई।इससे पुलिस अधिकारी लेफ्टिनेंट क्रिस्टिचन बोलोक की मौत हो गई। सान जोसे शहर में कार्रवाई के दौरान तीन लोगों को गिरफ्तार किया और मौके से दो मुर्गों को बरामद किया गया है। जानकारी के अनुसार नॉर्दन समर इलाके में हुई इस घटना में मुर्गे के पैर में लगी ब्लेड पीडि़त की बाईं जांघ की धमनी में फंस गई और उसको काटते हुए निकल गई। इससे पुलिसकर्मी के पैर से काफी खून निकल गया और उसकी मौत हो गई। फिलीपीन्स में मुर्गे की लड़ाई को तुपडा़ कहा जाता है और यह काफी लोकप्रिय है। लोग इस पर पैसा लगाते हैं। हालांकि इसे वहां पर गैर कानूनी घोषित किया हुआ है।

  • इस राज्य में निकली 3704 पदों की शिक्षक भर्ती, 3 नवंबर तक करेें आवेदन


    शिक्षक बनने की सोचने वालों के लिए सुनहरा मौका आया है क्योंकि उनके लिए बंपर सरकारी भर्ती निकाली गई है। इस भर्ती के तहत पंजाब में 3704 पदों के लिए आवेदन मांगे गए हैं। इस भर्ती प्रक्रिया के लिए योग्य व इच्छुक उम्मीदवार 03 नवंबर 2020 तक आवेदन कर सकते हैं।पंजाब में 3704 पदों के लिए निकाली गई इस भर्ती (Punjab Master Cadre Recruitment 2020) के तहत चयनित उम्मीदवारों को 10300 रुपये प्रति माह का वेतन दिया जाएगा.विषय— पदों की संख्याहिंदी— 200सोशल स्टडीज— 204पंजाबी— 171गणित— 966विज्ञान— 1207अंग्रेजी— 956कुल संख्या — 3704योग्यता व आयु सीमाइस भर्ती के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का 45 फीसदी अंकों के साथ ग्रेजुएट होना और B.Ed पास होना अनिवार्य है। इस भर्ती के लिए आयु सीमा 18 वर्ष से लेकर 37 वर्ष तक निर्धारित की गई है। आयु की गिनती 01 जनवरी 2020 के आधार पर की जाएगी।सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों को इस भर्ती के लिए आवेदन शुल्क के रूप में 1000 रुपये का भुगतान करना होगा। वहीं आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को 500 रुपये चुकाने होंगे।इस भर्ती के लिए 2 मार्च 2020 से ही आवेदन प्रक्रिया जारी है। हालांकि, आवेदन की आखिरी तारीख को बढ़ाकर 03 नवंबर 2020 कर दिया गया है।उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाएगा।

  • CSIR की बड़ी रिपोर्ट, गंदगी में रह रहे भारतीयों को कोरोना वायरस से खतरा


    CSIR ने बड़ी रिपोर्ट जारी की है जिसके तहत गंदगी में रह रहे भारतीयों को कोरोना वायरस से ज्यादा खतरा है। इस रिपोर्ट के मुताबिक गंदगी और कम गुणवत्ता वाले पानी की वजह से जिन देशों में हाइजीन का लेवल खराब है, वहां कोविड-19 से मौत का खतरा भी साफ-सुथरे देशों की तुलना में कम है। सेंटर फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) ने अपनी एक रिपोर्ट में ऐसा दावा किया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार भारत को गंदगी से जोड़कर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। ट्रंप के उस बयान को अगर इस हालिया रिपोर्ट के संदर्भ में देखा जाए तो भारत कोविड-19 के खिलाफ ज्यादा मजबूती से जंग कर सकता है।CSIR की इस रिपोर्ट के मुताबिक लो और लो-मिडिल इनकम वाले देशों पर हाई पैरासाइट और बैक्टीरिया से फैलने वाली बीमारियों का बोझ ज्यादा होता है। इसीलिए लोगों के बीच फैलने वाले रोगों का अनुभव उनकी इम्यून ट्रेनिंग का हिस्सा बन जाता है। इस प्रैक्टिस को इम्यून हाइपोथिसिस कहा जाता है।एक्सपर्ट कहते हैं कि विकसित देशों में बेहतर हाइजीन और इंफेक्शन के खतरे का घटता स्तर ऑटोइम्यून डिसॉर्डर और एलर्जी की समस्या पैदा करता है। ऑटोइम्यून डिसॉर्डर कोविड-19 से होने वाली मौतों की बड़ी वजह है, क्योंकि बॉडी का अपना हाइपरेक्टिव इम्यून इंफेक्शन को नष्ट करने वाले साइटोकिन बनाता है।ऑटोइम्यून डिसॉर्डर की समस्या हाई जीडीपी वाले देशों यानी विकसित देशों में ज्यादा देखने को मिली है। इन देशों में मृत्यु दर की उछाल का ये एक बड़ा कारण है सकता है। जबकि भारत में इसके विपरीत परिणाम देखने को मिले हैं। भारत के जिन राज्यों या शहरों का इतिहास किसी इंफेक्शन से जुड़ा रहा है, वहां कोविड-19 से कम मौतें हुई हैं।CSIR के डायरेक्टर जनरल और इस स्टडी के प्रमुख लेखक शेखर मांडे ने कहा कि हमने 25 मापदंडों का विश्लेषण किया है। ये बड़ा विरोधाभासी है कि हाई जीडीपी वाले देशों में कोविड-19 से लोग ज्यादा मर रहे हैं। इन देशों में जीवन प्रत्याशा अधिक है। उनके पास नॉन-कॉम्यूनिकेबल डिसीज ज्यादा हैं, जो कि कोविड-19 से मौतों का बड़ा कारक है।उन्होंने आगे कहा कि हमने सैनिटाइजेशन के लेवल की भी जांच की है। भारत में हाइजीन हाइपोथिसिस है कि यानी अगर आपके शरीर को बचपन से ही रोगजनक वायरस से लड़ने की आदत है तो आप इस बीमारी को अच्छे से डील कर पाएंगे। कम हाइजीन का मतलब ज्यादा इंफेक्शन का खतरा और इससे लड़ने के लिए आपकी इम्यून सिस्टम बेहतर ट्रेंड होता है। अगर इम्यून इससे लड़ने में सक्षम नहीं है तो वायरस का अटैक इंसान को गंभीर स्थिति में ले जाएगा।उदाहरण के तौर पर, बिहार सोशियो-इकोनॉमी के पैमाने पर भारत का एक गरीब राज्य है। लेकिन कोविड-19 से यहां मौत का खतरा सिर्फ 0.5 प्रतिशत है जो कि देश की मृत्यु दर से बहुत कम है। बिहार के अलावा, केरल और असम (0.4), तेलंगाना (0.5), झारखंड और छत्तीसगढ़ (0.9) में भी कोविड-19 का डेथ रेट कम देखा गया है। जबकि महाराष्ट्र और गुजरात जैसे शहरों में डेथ रेट ज्यादा है।

  • मौसम विभाग की चेतावनी, आज देश के इन राज्यों में है बारिश के आसार


    भारत मौसम विभाग की ओर से चेतावनी दी गई है कि आज तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और केरल के कुछ इलाकों में बारिश की संभावना है। इसके अलावा पूरे देश में कहीं भी बारिश के आसार नजर नहीं आ रहे हैं।वहीं दिल्ली के पीएम 2.5 प्रदूषण में पराली जलाए जाने की हिस्सेदारी मंगलवार को बढ़कर 23 प्रतिशत हो गई, जोकि इस मौसम की सर्वाधिक है। वायु गुणवत्ता पर निगरानी रखने वाली केन्द्र सरकार की एजेंसी सफर ने यह जानकारी दी है। एजेंसी ने बताया कि सोमवार को यह 16 प्रतिशत जबकि रविवार को 19 प्रतिशत थी। सफर ने कहा कि पड़ोसी राज्यों में पराली जलाए जाने के मामलों की संख्या सोमवार को 1,943 रही, जो इस सीजन में सबसे अधिक है।एजेंसी ने कहा कि दिल्ली में पीएम 2.5 कणों की सघनता में पराली जलाए जाने की हिस्सेदारी मंगलवार को 23 प्रतिशत थी। बहरहाल सफर ने कहा कि हवा की रफ्तार बढ़ने से दिल्ली की वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार हुआ है।मौसम विभाग के अनुसार हवा की दिशा उत्तर-पश्चिम की ओर है और इसकी अधिकतम गति 15 किलोमीटर प्रति घंटा है। न्यूनतम तापमान 14.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। सफर ने कहा कि बुधवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) में थोड़ा सुधार होने का अनुमान है, लेकिन गुरुवार को प्रदूषण का स्तर बढ़ सकता है।दिल्ली में मंगलवार को 24 घंटे के दौरान औसत 312 एक्यूआई दर्ज किया गया है। सोमवार को दिल्ली का एक्यूआई 353, रविवार को 349 और शुक्रवार को 366 था. बता दें कि 0 और 50 के बीच एक्यूआई को अच्छा, 51 और 100 के बीच संतोषजनक, 101 और 200 के बीच मध्यम, 201 और 300 के बीच खराब, 301 और 400 के बीच बेहद खराब और 401 से 500 के बीच गंभीर माना जाता है।केंद्र सरकार की वायु गुणवत्ता प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली ने कहा कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता 31 अक्टूबर तक बहुत खराब श्रेणी में रहने की आशंका है। केंद्र सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण को रोकने के लिए एक कानून लाएगी।

  • Fr. स्टेन स्वामी की रिहाई के लिए SAFF संगठन ने पीएम मोदी से लगाई गुहार


    शिलॉन्ग ऑल फेथ्स फोरम (SAFF) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर Fr. स्टेन स्वामी की रिहाई के लिए मांग की है। जानकारी के लिए बता दें कि मानव और स्वास्थ्य के आधार पर स्टेन स्वामी जांच के बाद, पुणे पुलिस, और फिर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा देशद्रोह और आतंक के गंभीर आरोपों में जेल भेज दिया गया था। पत्र में, मोस्ट रेवड डॉ. पी. लिंगदोह, अध्यक्ष और रेव ईएच खरकॉन्गोर, SAFF के सचिव ने लिखा है। इस पत्र में लिंगदोह और खरकॉन्गोर ने कहा कि हाल के दिनों में मीडिया से, हमें Fr की गिरफ्तारी की सूचना है। 9 अक्टूबर, 2020 को झारखंड में अपने निवास से स्टेन स्वामी और इसने हमें निराश और आश्चर्य से भर दिया है। यह शिलांग में विभिन्न समुदायों और विश्वास समूहों का प्रतिनिधित्व करता है, शिलॉन्ग ऑल फेथ्स फोरम (SAFF) ने कहा कि यह मानवीय आधार पर इस मामले के विशेष विचार के लिए प्रधान मंत्री के कार्यालय में एक अपील प्रस्तुत करने की इच्छा है। इन्होंने पीएम से गुहार लगाई कि Fr. स्टेन स्वामी एक ईसाई धार्मिक आदेश के एक अष्टाध्यायी पुजारी और सामाजिक कार्यकर्ता हैं, और लगातार आदिवासियों की सेवा करते रहे हैं। इस साल हमारे देश में चल रहे कोरोनो वायरस महामारी के प्रभाव को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में देखा गया है और इस कारण से Fr. स्टेन स्वामी जिनकी उम्र उन्हें खतरनाक वायरस से उजागर करती है, उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए था। इसलिए हमें उम्मीद है कि पीएम स्टेन स्वामी को रिहा कर दें।

  • बिहार चुनावः सुबह 11 बजे तक 18.48 प्रतिशत मतदान, कृषि मंत्री के मास्क से खड़ा हुआ विवाद


    बिहार में प्रथम चरण के मतदान में आज ग्यारह बजे तक 18.48 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। राज्य निर्वाचन कार्यालय के अनुसार, प्रथम चरण की 71 विधानसभा सीटों के लिए सुबह सात बजे से जारी मतदान में पहले चार घंटे यानी पूर्वाह्न 11 बजे तक 18.48 प्रतिशत मत पड़े हैं। इस दौरान लखीसराय में सबसे अधिक 26.76 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया वहीं जहानाबाद में सबसे कम 11.42 प्रतिशत वोट पड़े हैं। बुधवार पूर्वाह्न 11 बजे तक भागलपुर जिले में 23.01 प्रतिशत, बांका में 22.58 प्रतिशत, मुंगेर में 15.20 प्रतिशत, लखीसराय में 26.76 प्रतिशत, शेखपुरा में 17.31 प्रतिशत, पटना में 18.97 प्रतिशत, भोजपुर में 16.21 प्रतिशत, बक्सर में 19.10 प्रतिशत, कैमूर में 16.98 प्रतिशत, रोहतास में 15.87 प्रतिशत, अरवल में 14.81 प्रतिशत, जहानाबाद में 11.41 प्रतिशत, औरंगाबाद में 19.79 प्रतिशत, गया में 19.10 प्रतिशत, नवादा में 23.42 प्रतिशत और जमुई जिले में 13.91 प्रतिशत वोट पड़े हैं। इस बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गया नगर सीट से उम्मीदवार एवं बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार पार्टी के चुनाव चिन्ह ‘कमल’ वाला मास्क पहनकर स्वराजपुरी रोड स्थित जीरादेई भवन के बूथ पर मतदान करने पहुंचे। इसे जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए डॉ. कुमार पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया। वहीं, पटना जिले के पालीगंज और नवादा के हसनगंज में सड़क की समस्या से नाराज मतदाताओं ने मतदान का बहिष्कार कर दिया। उधर नवादा जिले के हसनगंज के मतदान केंद्र संख्या 255 और 256 पर भी ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया। इन मतदान केंद्रों पर पहले दो घंटे तक एक भी वोट नहीं पड़ा। ग्रामीणों को अधिकारी समझानेे का प्रयास कर रहे हैं।

  • असम में फिर से खुलेंगे स्कूल शिक्षा और स्वास्थ्य अधिकारियों ने की बैठक


    कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण सभी स्कूल और कॉलेज सभी सार्वजनिक स्थान बंद कर दिए गए थे। पूरे देश में व्यापक लॉकडाउन लागू था। लेकिन अभी केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि अब लॉकडाउन को खोल दिया जाएगा। अभी लॉकडाउन को अनलॉक किया जाएगा। जिसमें स्कूल-कॉलेज और सिनेमा घर शामिल है। इसी पर अमल करते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने भी स्कूलों को खोलने के आदेश दिए हैं। इसलिए सर्बानंद सोनोवाल शिक्षा, स्वास्थ्य आदि विभागों के अधिकारियों के साथ स्कूल खोलने के लिए बैठक की, जो सात महीने से अधिक समय से COVID-19 महामारी के कारण बंद हैं। बैठक में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा तैयार किए गए एसओपी के बारे में विभाग के प्रमुख सचिव बी. कल्याण चक्रवर्ती की प्रस्तुति के माध्यम से अवगत कराया गया। स्कूलों को फिर से खोलने के दौरान 19 प्रोटोकॉल शामिल हैं। इसी के साथ सुबह जल्दी कक्षाएं शुरू करने की आवश्यकता पर बल दिया है और छात्रों के दो समूहों के कक्षा के समय के बीच एक उचित अंतर बनाए रखें, शौचालय को साफ रखें और दूसरों के बीच स्वच्छता बनाए रखें। सोनोवाल ने कहा कि कई नकारात्मकताओं के बीच, महामारी ने कुछ सकारात्मक भी लाए हैं और लोगों को स्वच्छता और स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूक किया है और शिक्षा विभाग को छात्रों के माध्यम से समाज में स्वच्छता के संदेश को फैलाने के लिए यह अवसर लेना चाहिए।

  • असम में नहीं होगा मिया संग्रहालय, जब तक भाजपा सत्ता में है: हिमंत


    असम के वित्त मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने चुनाव प्रचार सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जब तक भाजपा सत्ता में रहेगी तब तक असम में कोई मिया संग्रहालय नहीं होगा। बता दें कि मंत्री सरमा ने गुवाहाटी में श्रीमंत शंकरदेवा कलाक्षेत्र में सिफारिश विभागीय संबंधित स्थायी समिति (DRSC) द्वारा की गई मिया संग्रहालय स्थापित करने के प्रस्ताव को दृढ़ता से खारिज कर दिया। DRSC के पास कांग्रेस या AIUDF से अधिक भाजपा सदस्य होने के आरोपों का जवाब देते हुए, सरमा ने कहा ने कहा कि असम में कोई मिया संग्रहालय नहीं होगा। सरमा ने यही नहीं कहा बल्कि विपक्ष को चुनौती देते हुए कहा कि भाजपा पार्टी असम में आगामी विधानसभा चुनावों में लगभग 100 सीटें जीतेगी। और लोगों को विकास की और लेकर जाएगी। मोदी जी ने जैसे सारी दुनिया में भारत का नाम किया है वैसे ही आगे होता रहेगा। जानकारी के लिए बता दें कि बारपेटा जिले के बागबेर निर्वाचन क्षेत्र के कांग्रेस विधायक शेरमन अली अहमद ने पिछले सप्ताह गुवाहाटी में प्रसिद्ध श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में राज्य के चार-चापोरियों में रहने वाले लोगों के लिए एक संग्रहालय स्थापित करने का मुद्दा उठाया था। असम में विधानसभा चुनाव से पहले, राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है और मतदान केंद्रित भाषण दे रहे हैं। सरमा, जो भाजपा के नेतृत्व वाले नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस (NEDA) के संयोजक भी हैं।