Last Updated: 05 Apr 2020 03:34 PM

India Top Stories

Lokmat Samachar

bhaskar

  • थाईलैंड-मलेशिया पर  3 और 1 साल का प्रतिबंध, इन देशों के वेटलिफ्टर टोक्यो ओलिंपिक में नहीं जा पाएंगे

    इंटरनेशनल वेटलिफ्टिंग फेडरेशन (आईडब्ल्यूएफ) ने थाई एमेच्योर वेटलिफ्टिंग एसोसिएशन (टीएडब्ल्यूए) पर 3 और मलेशियन वेटलिफ्टिंग फेडरेशन (एमडब्ल्यूएफ) पर 1 साल का प्रतिबंध लगाया है। दोनों देशों पर कई सारे डोपिंग आरोप लगने के कारण आईडब्ल्यूएफ शनिवार को यह प्रतिबंध लगाया है। इसके कारण अब थाईलैंड और मलेशिया के वेटलिफ्टर टोक्यो ओलिंपिक में शामिल नहीं पाएंगे। कोरोनावायरस के कारण इस साल होने वाले टोक्यो गेम्स को एक साल के लिए टाल दिया गया है। अब यह ओलिंपिक अगले साल 24 जुलाई से 8 अगस्त के बीच होंगे।

    इंटरनेशनल फेडरेशन ने कहा है कि टोक्यो ओलिंपिक चाहे जब भी हों, इन दोनों देशों के खिलाड़ी इसमें हिस्सा नहीं ले सकेंगे। इसके अलावा इटनेशनल फेडरेशन ने थाई फेडरेशन पर दो लाख डॉलर (करीब 1.53 करोड़ रुपए) का जुर्माना भी लगाया है। थाई फेडरेशन ने 2018 वर्ल्ड चैम्पियनशिप में अपने 9 वेटलिफ्टरों के डोपिंग में फंसने के बाद खुद ही ओलिंपिक से नाम वापस ले लिया था।

    मलेशिया के 3 खिलाड़ी डोप टेस्ट में फेल
    वहीं, मलेशिया की बात करें तो एक कैलेंडर ईयर में उसके तीन खिलाड़ियों को डोप टेस्ट में फेल हो के कारण सजा मिल चुकी है। आईडब्ल्यूएफ ने मलेशिया के सभी खिलाड़ियों पर 5 महीने का अतिरिक्त प्रतिबंध लगाया है, क्योंकि कोरोनावायरस के कारण इस साल होने वाले लगभग सभी इवेंट टाले या रद्द किए जा चुके हैं। थाईलैंड और मलेशियाई संस्था 1 अप्रैल से 21 दिन के अंदर कोर्ट ऑफ आर्बिट्रेशन फॉर स्पोर्ट (सीएएस) में इस प्रतिबंध के खिलाफ अपील कर सकते हैं।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    मलेशिया के वेटलिफ्टर मोहम्मद अज्निल बिदिन ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में स्वर्ण जीता था।

  • पीटरसन ने आईपीएल को लेकर सुझाव दिया, कहा- तीन सुरक्षित स्टेडियम में बगैर दर्शकों के छोटे फॉर्मेट में टूर्नामेंट होना चाहिए

    कोरोनावायरस के लगातार बढ़ते प्रकोप के कारण क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसी बीच इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन ने आईपीएल कराए जाने को लेकर सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि यदि संभव हो तो आईपीएल के 13वें सीजन को कराया जाना चाहिए। कोरोना के कारण दर्शकों की जान को कोई खतरा न हो, इसके लिए टूर्नामेंट को तीन सुरक्षित स्टेडियम में बगैर फैन्स के ही कराया जाना चाहिए।

    पीटरसन ने कहा कि इस बार आईपीएल का फॉर्मेट भी छोटा हो सकता है। इस बार टूर्नामेंट तीन या चार हफ्ते में खत्म हो सकता है। पिछले ही महीने बीसीसीआई ने कोरोना और वीजा प्रतिबंध के कारण 29 मार्च से शुरु होने वाले आईपीएल को 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया था। पहला मैच डिफेंडिंग चैम्पियन मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच होना था।

    ‘हर एक खिलाड़ी आईपीएल खेलने के लिए बेताब है’
    इंग्लिश खिलाड़ी ने स्टार स्पोर्ट्स चैनल से कहा, ‘‘चलिए अब जुलाई-अगस्त भी जल्दी ही आने वाला है। मेरा मानना है कि आईपीएल के इस सीजन को भी कराया जाना चाहिए। विश्व का हर एक खिलाड़ी भी यही चाहता है और वह खेलने के लिए भी बेताब है। खिलाड़ियों और फ्रेंचाइजियों के साथ-साथ आईपीएल उन लोगों के लिए भी बहुत महत्व रखता है, जो इसके पर्दे के पीछे काम करते हैं। ऐसा कोई तरीका भी ढूंढना चाहिए, जिससे की फ्रेंचाइजी कुछ कमाई कर सके। जैसे कि सभी मैच सिर्फ तीन सुरक्षित स्टेडियम में बगैर दर्शकों के कराए जाएं। इसे तीन या चार हफ्ते में सीमित कर सकते हैं।’’

    आईपीएल से कई लोगों को रोजगार मिलता है: मांजरेकर
    पूर्व भारतीय बल्लेबाज संजय मांजरेकर ने भी पीटरसन की बात से सहमत जताते हुए आईपीएल की अहमियत बताई। सरकार, बोर्ड और फ्रेंचाइजी समेत अन्य सभी संबंधित संस्थाओं से सहमति मिलती है, तो आईपीएल को जरूर कराया जाना चाहिए। इससे एक विशेष अर्थव्यवस्था भी शुरू हो जाएगी, क्योंकि जब भी इस टूर्नामेंट की बात आती है, तो यह मुंबई इंडियंस, महेंद्र सिंह धोनी या विराट कोहली के बारे में नहीं होती, बल्कि उन लोगों के लिए होती है, जो आईपीएल के जरिए रोजगार पा रहे हैं।

    खाली स्टेडियम में सभी क्रिकेट मैच कराए जाएं: लैंगर
    वहीं, पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट जस्टिन लैंगर ने बीबीसी रेडियो से कहा, ‘‘जब आप क्रिकेट खेलना शुरू करते हैं, जब आज छोटी उम्र में होते हैं तो उस समय आपके सामने कोई भीड़ नहीं होती है। आपने तब क्रिकेट खेला, क्योंकि आप इस खेल को पसंद करते हैं। आपको अपने साथियों के साथ खेलना पसंद आता है और आपको खेलना अच्छा लगता है। इस खेल के प्यार के कारण और लोगों को टीवी सेट तथा रेडियो के जरिए लोगों का मनोरंजन करने में अब भी सक्षम हैं। ऐसे में ही खाली स्टेडियम में मैच कराए जाने का महत्व है।हां यह थोड़ा अलग जरूर होगा, लेकिन हमें इस बात को किसी भी हाल में कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए कि हम सभी कितने भाग्शाली हैं।’’



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    इंग्लैंंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन (दाएं) ने आईपीएल के 36 मैच में 35.75 की औसत से 1001 रन बनाए हैं।। -फाइल फोटो

  • फाइनल में मैंने ही धोनी को ऊपर आने के लिए कहा था, गंभीर के साथ लेफ्ट-राइट के कॉम्बिनेशन की रणनीति सफल रही: सचिन

    पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर शनिवार को वनडे वर्ल्ड कप 2011 के विनिंग मोमेंट को याद किया। सचिन ने कहा कि श्रीलंका के खिलाफ फाइनल मुकाबले में उन्होंने ही कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को एक स्थान ऊपर 5वें नंबर पर आकर बल्लेबाजी करने के लिए कहा था। जब विराट कोहली के रूप में चौथा विकेट गिरा था, तब बाएं हाथ के बल्लेबाज गौतम गंभीर क्रीज पर थे। सचिन ने लेफ्ट-राइट का कॉम्बिनेशन बनाने के लिए दाएं हाथ के बल्लेबाज धोनी को ऊपर भेजा। जबकि छठे नंबर पर शानदार फॉर्म में चल रहे राइट हैंड बेट्समैन युवराज सिंह को आना था। गंभीर-धोनी के बीच 5वेंं विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी हुई थी। धोनी ने आखिरी बॉल पर छक्का लगाकर मैच जिताया था।

    भारतीय टीम ने फाइनल में श्रीलंका को 6 विकेट से हराया था। कपिल देव की कप्तानी में 1983 के बाद भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में 2011 में दूसरी बार वनडे वर्ल्ड कप खिताब जीता था। जिसे 2 अप्रैल को 2020 को 9 साल पूरे हो गए हैं। युवराज मैन ऑफ द सीरीज रहे थे। जबकि फाइनल में नाबाद 91 रन की पारी खेलने वाले धोनी मैन ऑफ द मैच रहे थे। वहींं,वर्ल्ड कप जीतने के बाद खिलाड़ियों ने सचिन को कंधे पर उठाकर मैदान का ‘लैप ऑफ ऑनर’ लगाया था।

    श्रीलंकाई स्पिनर के लिए लेफ्ट-राइट कॉम्बिनेशन बनाया

    सचिन ने एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए कहा कि श्रींलका में दो शानदार स्पिनर खेल रहे थे, इसलिए मुझे लगा की बल्लेबाजी में लेफ्ट-राइट कॉम्बिनेशन बनाए रखना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा, ‘‘गौतम शानदार बल्लेबाजी कर रहा था। उसके साथ धोनी जैसा बल्लेबाज ही लगातार स्ट्राइक बदल सकता था। तभी मैंने वीरू (वीरेंद्र सहवाग) से संदेशा भिजवाया। मैंने वीरू से कहा कि तू ओवर के बीच में जाकर सिर्फ ये बात बाहर जाकर एमएस (धोनी) को बोल देना और अगला ओवर शुरू होने से पहले वापस आ जाना। मैं यहां से नहीं हिलने वाला।’’

    सचिन ने कहा, ‘‘जैसा मैंने कहा था, वीरू ने वैसा ही किया। इसके बाद धोनी ड्रेसिंग रूम में लौट गए। यहां उन्होंने कोच गैरी कर्स्टन से इस रणनीति पर बात की। हमारे (सचिन-वीरू) आउट होने के बाद गैरी और धोनी समेत हम चारों ने मिलकर इस पर चर्चा की। गैरी को अटैकिंग के लिए लेफ्ट-राइट की रणनीति बेहतरीन लगी। धोनी भी इस पर राजी भी हो गए और 5वें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए।’’

    ‘धोनी ने कोच से कहा था कि वे मुरली को अच्छे से खेल सकते हैं’
    वहीं, ऑलराउंडर सुरेश रैना ने कहा कि धोनी मुरलीधरन को अच्छे से खेल सकते हैं, इसलिए बल्लेबाजी क्रम में ऊपर आए थे। उन्होंने कहा, ‘‘इस दिन गंभीर का विश्वास से भरा हुआ था। उसको देखकर मुझे ऐसा लगा, जैसे वह हमारे लिए वर्ल्ड कप जीतना चाहता है। धोनी (नाबाद 91 रन) फार्म में चल रहे युवराज के पहले बल्लेबाजी करने आए थे। धोनी ने कोच गैरी कर्स्टन से कहा था कि वे मुरलीधरन को अच्छे से खेल सकते हैं, इसलिए वे पहले जाना चाहते हैं। मुझे याद है कि सबकुछ कितने अच्छे से हुआ था।’’

    फाइनल में गंभीर ने 97 और धोनी ने नाबाद 91 रन बनाए थे
    मुंबई में खेले गए 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 6 विकेट पर 274 रन बनाए थे। टीम के लिए महेला जयवर्धने ने 103 रन की नाबाद पारी खेली थी। इसके जवाब में भारतीय टीम ने 4 विकेट पर 277 रन बना लिए थे। टीम के लिए गौतम गंभीर ने 97 और कप्तान धोनी ने नाबाद 91 रन बनाए थे। जबकि सचिन 18 रन और सहवाग शून्य पर पवेलियन लौट गए थे।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    वर्ल्ड कप जीतने के बाद खिलाड़ियों ने सचिन को कंधे पर उठाकर मैदान का ‘लैप ऑफ ऑनर’ लगाया था।

  • हॉकी इंडिया ने एक करोड़ दिए, गांगुली ने 10 हजार लोगों को भोजन कराया; वसीम अकरम बैट-बॉल नीलाम करेंगे

    कोरोनावायरस से लड़ने में हॉकी इंडिया (एचआई) ने एक बार फिर मदद का हाथ बढ़ाया है। एक अप्रैल को 25 लाख देने की घोषणा करने वाली एचआई ने 75 लाख रुपए और डोनेट करने का फैसला किया है। अब कुल राशि एक करोड़ रुपए हो गई है। वहीं, पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज वसीम अकरम और इंग्लैंड के डैरेन गॉफ भी मदद के लिए आगे आए हैं। दोनों ने फंड जुटाने के लिए अपनी यादगार चीजों को नीलामी के लिए देने का फैसला किया है। अकरम ने नीलामी के लिए अपना ऑटोग्राफ किया बल्ला और गेंद देने का फैसला किया है। इंग्लैंड के लिए वनडे के दूसरे सबसे सफल गेंदबाज गॉफ नीलामी के लिए ऑटोग्राफ्ड गेंद देंगे।

    इस बीच, गोल्फर अनिर्बान लाहिड़ी ने पीएम केयर्स फंड में 7 लाख रुपए दान किए हैं। वहीं, पूर्व वर्ल्ड चैंपियन विश्वनाथन आनंद और कोनेरू हंपी सहित कई भारतीय शतरंज खिलाड़ी फंड जुटाने के लिए ऑनलाइन एग्जिबीशन गेम खेलेंगे।

    गांगुली ने कोलकाता के इस्कॉन मंदिर की मदद की
    बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कोलकाता के इस्कॉन मंदिर की मदद कर करीब 10 हजार लोगों के भोजन का इंतजाम किया है। कोलकाता इस्कॉन रोज करीब दस हजार लोगों को भोजन दे रहा था। अब वह 20 हजार लोगों के भोजन का इंतजाम कर सकेगा।

    स्टेडियम को अस्पताल और टेस्टिंग सेंटर में बदला
    अमेरिका का बीजेके नेशनल टेनिस सेंटर और जर्मनी का इडुना पार्क स्टेडियम कोरोनावायरस महामारी में मदद के लिए आगे आया है। यूएस ओपन ग्रैंड स्लैम के क्वींस स्टेडियम को अस्थाई हॉस्पिटल में बदल दिया है। आर्मस्ट्रांग स्टेडियम को डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर में बदल दिया है। यहां रोजाना 25 हजार खाने के पैकेट तैयार किए जा रहे हैै। इस बीच, जर्मन क्लब बोरुसिया डॉर्टमंड के स्टेडियम का इस्तेमाल कोरोना टेस्टिंग सेंटर के रूप में होगा।

    महिला खिलाड़ी 3 महीने की सैलरी में कटौती कराएंगी
    इंग्लैंड के पुरुष और महिला क्रिकेटर सैलरी कटौती की बात पर सहमत हो गए हैं। सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पाने वाले पुरुष खिलाड़ियों ने इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) को पांच लाख पाउंड (लगभग 4.71 करोड़ रुपए) देने की पेशकश की है। कोरोनावायरस के खिलाफ मदद के लिए खिलाड़ियों ने ऐसा किया है। ईसीबी ने खिलाड़ियों की सैलरी में 20 प्रतिशत की कटौती का प्रस्ताव रखा था। वहीं महिला क्रिकेटरों ने अप्रैल, मई और जून की सैलरी में कटौती का प्रस्ताव रखा है। बयान में कहा गया कि इंग्लैंड के कॉन्ट्रैक्ट प्राप्त पुरुष खिलाड़ी बातचीत के बाद ईसीबी को दान देने पर सहमत हुए हैं। इसमें कहा गया कि पूरी जानकारी अगले सप्ताह दी जाएगी। कुछ क्रिकेटर व्यक्तिगत तौर पर भी योगदान दे चुके हैं। विकेटकीपर जोस बटलर अपनी 2019 वर्ल्ड कप की जर्सी की नीलामी कर रहे हैं जबकि महिला टीम की कप्तान हीथर नाइट नेशनल हेल्थ सर्विस से जुड़ी हुई हैं। नाइट ने कहा कि सभी खिलाड़ी सैलरी कटौती के पक्ष में हैं।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    जर्मन क्लब बोरुसिया डॉर्टमंड के स्टेडियम का इस्तेमाल कोरोना टेस्टिंग सेंटर के रूप में होगा।

  • अक्टूबर से शुरू होने वाला टी-20 वर्ल्डकप मुश्किल में, इस दौरान आईपीएल हो सकता है

    कोरोनावायरस के कारण कई और खेल स्थगित हो गए। इस बीच इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन के एक ट्वीट ने आईपीएल के आयोजन पर दिलचस्प बहस छेड़ दी है। आईपीएल अभी 15 अप्रैल तक स्थगित है। बोर्ड की ओर से अभी इसे रद्द नहीं किया गया है। यदि लॉकडाउन हट जाता है तो भी बीसीसीआई और फ्रेंचाइजी के पास छोटे टूर्नामेंट के लिए भी समय नहीं है। भले ही बोर्ड, टीम के मालिक और ब्रॉडकास्टर घाटे को तैयार हों, लेकिन कोई खिलाड़ी तब तक नहीं खेलना चाहेगा जब तक कि महामारी पूरी तरह से काबू में नहीं आ जाती।

    वॉन ने कहा कि सितंबर-अक्टूबर में 5 हफ्ते का आईपीएल कराया जा सकता है। यह ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप की तैयारी के लिहाज से अच्छा है। वॉन की सोच बताती है कि आईपीएल न केवल भारतीय बल्कि विदेशी खिलाड़ियों के लिए भी महत्वपूर्ण है। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के एक्सपर्ट पीटर लालोर इसे दूसरी ओर ले गए और कहा कि खिलाड़ियों की कठिनाई को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप को रद्द किया जा सकता है।

    बीसीसीआई अक्टूबर-नवंबर में आईपीएल कराने की तैयारी में
    इस दौरान बीसीसीआई अक्टूबर-नवंबर में आईपीएल कराने की तैयारी में है। यह बताता है कि टी20 वर्ल्ड कप को कितनी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि अभी 6 महीने का समय बाकी है। ऑस्ट्रेलिया इसे बिना फैंस के करा सकता है। यदि वर्ल्ड कप नहीं होता है तो इसे 2022 में कराया जा सकता है। सभी के अपने-अपने फाइनेंशियल हित हैं। भले यह अटकलबाजी हो लेकिन देखना होगा कि यह मामला कैसे सुलझता है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    टी-20 वर्ल्ड कप में भारत का पहला मुकाबला दक्षिण अफ्रीका से 24 अक्टूबर को होना है। -फाइल फोटो
    भारतीय टीम के कोच और चयनकर्ता कई बार कह चुके हैंं कि आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर ही धोनी का टी-20 वर्ल्ड कप में चयन संभव है। -फाइल फोटो

Amar ujala

NavBharat Times

Nai Dunia

Deshbandhu

Jansatta

livehindustan

indiatvnews

khaskhabar

dailynews360

  • कोरोना से जंग में गंभीर ने दिया अपना योगदान, PM केयर फंड में दो साल का देंगे वेतन


    पूर्व क्रिकेटर और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद गौतम गंभीर ने गुरुवार को कहा कि वह कोरोना वायरस से लडऩे के लिए सांसद के तौर पर मिलने वाला दो साल का वेतन प्रधानमंत्री केयर फंड में देगें। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण भारत सरकार ने 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषणा की है और ऐसे में खेल, बॉलीवुड, उद्योग और राजनीति जगत की तमाम हस्तियां मदद के लिए आगे आयी हैं। गंभीर ने ट्वीट कर कहा, लोग पूछते हैं कि देश ने उनके लिए क्या किया है। लेकिन असल सवाल तो यह है कि आपने देश के लिए क्या किया है। मैं प्रधानमंत्री केयर फंड में दो साल का वेतन दूंगा। आप भी मदद के लिए आगे आएं।पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गंभीर ने इससे पहले सांसद निधि से एक करोड़ रुपये और एक महीने का वेतन देने की घोषणा की थी। कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर में अब तक 40000 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में अब तक कोरोना के 1965 मामलों की पुष्टि हुई है और इससे यहां 50 लोगों की मौत हो चुकी है।

  • कोरोना के बीच भारत की इस बेटी ने भरी हुंकार, गोल्ड मेडल जीतने का कर दिया ऐलान


    छह बार की विश्व चैंपियन मैरी कॉम ने बुधवार को कहा कि उनका ध्यान ओलंपिक में देश के लिए स्वर्ण पदक लाना है। 37 वर्षीय मुक्केबाज को टोक्यो ओलंपिक में अपना स्थान सुरक्षित करने के लिए 51 किलोग्राम वर्ग में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी, हालांकि अब कोरोना वायरस महामारी के कारण यह टूर्नामेंट एक साल के लिए टाल दिया गया है।मैरीकॉम ने जॉर्डन में हाल ही में संपन्न एशिया/ओशिनिया बॉक्सिंग ओलंपिक क्वालीफायर में कांस्य पदक जीता था। यही नहीं मैरीकॉम ने 2012 के लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक हासिल किया था लेकिन रियो ओलंपिक के लिए वह क्वालीफाई करने में असफल रही थी। अब उनकी नजर टोक्यो ओलंपिक पर है।मैरी कोम ने भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के लिए एक फेसबुक लाइव में कहा, मेरा ध्यान ओलंपिक खेलों में भारत के लिए स्वर्ण जीतना है। मैं इस उम्र में भी वास्तव में कड़ी मेहनत कर रही हूं। मेरे लिए पहले स्थान पर ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना बहुत मुश्किल था, जिसे अगले साल तक के लिए टाल दिया गया है। उन्होंने आगे कहा, विश्व चैंपियनशिप या ओलंपिक में जगह हासिल करने के लिए मेरे पास कोई गुप्त मंत्र नहीं है। मैं हमेशा संघर्ष करती रहूंगी और तब तक हार नहीं मानूंगी, जब तक कि मैं ओलंपिक में भारत के लिए स्वर्ण नहीं जीत लूंगी। मुझे अपने सपने को पूरा करने के लिए पूरे देश का आशीर्वाद और प्यार चाहिए।अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने सोमवार को घोषणा की कि टोक्यो ओलंपिक 2020 अगले साल 23 जुलाई से 8 अगस्त तक आयोजित किया जाएगा, जबकि पैरालंपिक खेल 24 अगस्त से 5 सितंबर, 2021 तक खेले जाएंगे। टोक्यो 2020 ओलंपिक इस साल 24 जुलाई से शुरु होने वाले थे और 16 दिनों तक चलने वाले थे, लेकिन कोरोना वायरस महामारी ने खेलों के इस महाकुंभ पर ब्रेक लगा दिया। आईओसी और जापान ने हफ्तों तक जोर देकर कहा था कि वह इसे हर हाल में आयोजित करेंगे। लेकिन कोविड-19 के तेजी से प्रसार ने एथलीटों और खेल संघों के बीच बढ़ती बेचैनी को बढ़ा दिया था। इस वायरस ने न सिर्फ ओलंपिक बल्कि दुनिया के सारे बड़े खेल इवेंट पर विराम लगा दिया।

  • गजब! इतने करोड़ मिनट देखा गया भारत-पाकिस्तान वर्ल्ड कप मैच, टूटे रिकार्ड


    ब्राॅडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) की रिपोर्ट के अनुसार, भारत-पाक वर्ल्ड कप मैच 2900 करोड़ मिनट देखा गया। यह 2016-2019 के बीच सबसे ज्यादा देखा गया क्रिकेट मैच रहा। पिछले चार साल में देश में स्पोर्ट्स व्यूअरशिप 90% तक बढ़ गई। इसमें लाइव क्रिकेट 58% व्यूअरशिप के साथ टॉप पर रहा। 200 करोड़ मिनट देखा गया भारत का पहला पिंक बॉल टेस्ट, 4.3 करोड़ व्यूअरशिप मिली। 42.4 करोड़ लोगों ने आईपीएल मैच लाइव देखे, यह टीवी देखने वाले लोगों का 51% है। 50.9 करोड़ लोगों ने टीवी पर क्रिकेट वर्ल्ड कप देखा, 20 लाख सेकंड एडवरटाइज दिखाए गए।बार्क की रिपोर्ट के मुताबिक, क्रिकेट के अलावा कबड्‌डी, रेसलिंग और फुटबॉल को सबसे ज्यादा व्यूज मिले। कुल व्यूअरशिप 85% रही। 70% ग्रामीण लोगों ने कबड्‌डी जबकि 52% शहरी लोगों ने रेसलिंग के मुकाबले देखे। फुटबॉल के 50% से ज्यादा दर्शक केरल, असम, सिक्किम, प. बंगाल के रहे।

  • बाईचुंग भूटिया ने किया ऐसा ऐलान जो बड़े-बड़े नेता भी नहीं कर पाए, वीडियो वायरल


    21 दिनों के लॉकडाउन के कारण हजारों मजदूर और गरीबों का पलायन देखने को मिला। लॉकडाउन के बीच दिहाड़ी मजदूरों का सैलाब सड़कों पर उतर आया।इसी बीच भारतीय फुटबॉल के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया ने प्रवासी मजदूरों को छत देने ऐलान किया है। बाईचुंग भूटिया ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर इस बात की जानकारी दी है।बाईचुंग भूटिया ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं उन प्रवासी श्रमिकों के लिए परेशान हूं जो कोरोन वायरस और लॉकडाउन से बचने के लिए अपने-अपने घरों तक पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं। मैं ऐसे कर्मचारियों को आश्रय देने के लिए सिक्किम स्थित लुम्सेय और तडोंग में अपनी बिल्डिंग देने की पेशकश कर रहा हूं और उन्हें सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करने का सुझाव देता हूं। मैं और यूनिटेड सिक्किम फुटबॉल क्लब (USFC) उनकी मदद करेंगे।ज्ञात हो कि भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। देश में अब तक कोरोना वायरस के 1190 से ज्यादा संक्रमित मामले सामने आ चुके हैं। वहीं दुनिया भर में कोरोना वायरस के कारण 34 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

  • कोरोना वायरस : Mr. IPL सुरेश रैना Coronavirus के खिलाफ लड़ाई में आगे आए, राहत कोष में दिए 52 लाख


    भारतीय टीम (India National Cricket Team) के बांए हाथ के बल्लेबाज और मिस्टर आईपीएल (Mr. IPL) के नाम से फेमस सुरेश रैना (Suresh Raina) कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में आगे आए है.सुरेश रैना ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है कि उन्होंने भारत सरकार के पीएम केयर फंड में 31 लाख रूपये डोनेट किए है जबकि यूपीए मुख्यमंत्री आपदा कोष में उन्होंने 21 लाख रूपये दिए है.

    सुरेश रैना ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए बताया, हमें कोरोना वायरस को हराने के लिए अपना योगदान देना होगा. मैंने कोरोना वायरस से निपटने के लिए 52 लाख रुपये दिए हैं. 31 लाख रुपये पीएम केयर फंड और 21 लाख रुपये यूपी मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में दिए हैं.कोरोना के खिलाफ जंग में आगे आ चुके हैं ये खिलाड़ीबता दें, सुरेश रैना से पहले भी कई खिलाड़ी सामने आ चुके हैं और वो लगातार कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अपनी तरफ से मदद कर रहे हैं. इससे पहले टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एम एस धोनी ने दिहाई मजदूरों के भोजन की मदद के लिए पुणे की एक संस्था को मदद की थी.इतना ही नहीं उनसे पहले बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने 50 लाख के चावल डोनेट करने का फैसला किया था. जबकि पीवी सिंधु भी सामने आ चुकी हैं और वो भी कोरोना के खिलाफ जंग में मदद कर चुकी है. वहीं क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने 50 लाख रूपये दान दिए है.कोरोना वायरस के बीच सुरेश रैना को एक बड़ी खुशखबरी भी मिली है. सुरेश रैना की पत्नी ने बीते दिनों ही एक लड़के को जन्म दिया है. सुरेश रैना का यह दूसरा बच्चा है और उन्होंने उसका नाम रियो रखा है.हालांकि कोरोना वायरस के कारण सुरेश रैना को एक बड़ा झटका भी लगा है. दरअसल, सुरेश रैना टीम इंडिया से काफी दिनों से बाहर है, ऐसे में माना जा रहा था कि वो आईपीएल 2020 में बेहतरीन प्रदर्शन कर टीम इंडिया में अपनी वापसी तय करना चाहेंगे लेकिन कोरोना वायरस के कारण ही आईपीएल को 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.

samacharjagat