Last Updated: 23 Jan 2020 10:28 PM

India Top Stories

Lokmat Samachar

bhaskar

  • लगातार सीरीज पर कोहली ने कहा- वह दिन दूर नहीं, जब खिलाड़ी सीधे स्टेडियम में लैंड करेंगे और मैच खेलेंगे

    खेल डेस्क. टीम इंडिया के लगातार क्रिकेट खेलने पर कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को चिंता जाहिर की। कोहली ने कहा कि वह दिन ज्यादा दूर नहीं है, जब खिलाड़ी सीधे स्टेडियम में लैंड करेंगे और मैच खेलेंगे। भारत ने 4 दिन पहले ही 19 जनवरी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज खत्म की है और अब 24 जनवरी को ही उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 मैच खेलना है।2019 वर्ल्डकप के सेमीफाइनल में हार के बाद टीम इंडिया पहली बार न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच खेलेगी।

    कोहली ऑकलैंड में पहले टी-20 मैच से पहले मीडिया से बात कर रहे थे। ऑस्ट्रेलिया सीरीज के बाद बेहद कम समय में न्यूजीलैंड दौरे पर आने पर कोहली ने कहा- यह दिखाता है कि खेल में दबाव किस तरह का हो गया है। मैं सोचता हूं ऐसी यात्राएं और ऐसी जगह पर आना जो टाइम जोन में भारत से 7 घंटे आगे हो, हमेशा ही इन परिस्थितियों में तुरंत ढलना मुश्किल होता है।

    आज काअंतरराष्ट्रीय क्रिकेट यही है- कोहली

    • कोहली ने कहा- मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि इन सारी बातों को भी भविष्य में ध्यान रखा जाएगा। लेकिन, जो है.. सो तो है। आपको दोबारा मैदान पर उतरने के लिए खुद को बेहतर करने के लिए जो भी कर सकते हैं, करना होगा। आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट यही है। यह लगातार होती है।
    • "ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी सीरीज में हमने वनडे मैच खेले। ऐसे में हमने मैदान पर ज्यादा वक्त बिताया। लेकिन, हमने इससे पहले कुछ टी-20 भी खेले।"
    • भारतीय कप्तान ने कहा- केवल टी-20 के अलावा भी हमने काफी क्रिकेट खेली। ऐसे में हम लोगों के लिए यह आसान है कि न्यूजीलैंड में कम वक्त में भी हम खेलने के लिए तैयार रहें। हम इस सीरीज को लेकर काफी उत्साहित हैं। इस साल वर्ल्डकप खेला जाना है और हर टी-20 महत्वपूर्ण है।
    • उन्होंने कहा, "दूसरे देशों की अपेक्षा न्यूजीलैंड का दौरा काफी आरामदायक रहता है। हर दौरा हमें यह बताता कि लोग खेल को किस तरह से देखते हैं। न्यूजीलैंड में खेल को एक जॉब की तरह देखा जाता है, जिसे खिलाड़ी पूरा करते हैं।"

    न्यूजीलैंड से बदले के बारे में सोच भी नहीं सकता, ये बहुत अच्छे हैं- कोहली

    2019 वर्ल्डकप में न्यूजीलैंड से सेमीफाइनल में मिली हार पर कोहली ने कहा- न्यूजीलैंड से बदला लेने के बारे में सोच भी नहीं सकता। अगर आप बदले के बारे में सोचना भी चाहते हैं तो ये लोग इतने अच्छे हैं कि आप ऐसा नहीं कर पाएंगे। यह केवल मैदान पर प्रतिस्पर्धी रहने के बारे में है। जैसा कि मैंने इंग्लैंड में कहा था कि न्यूजीलैंड निश्चित तौर पर वह टीम है, जो अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाली टीमों के लिए मिसाल तय करती है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Virat Kohli on Cricket Schedule & New Zealand T-20 Series News Updates

  • दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता मुगुरुजा कड़े संघर्ष के बाद तीसरे सेट में जीतीं; डोना, बेलिंडा और मेदवेदेव भी जीते

    खेल डेस्क. ऑस्ट्रेलियन ओपन के चौथे दिन गुरुवार का खेल बारिश, तेज हवाओं और धुंध के कारण करीब 4 घंटे की देरी से शुरू हुआ। दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता गार्बिन मुगुरुजा ने कड़े संघर्ष के बाद जीत दर्ज की। इस स्पेनिश खिलाड़ी ने ऑस्ट्रेलिया की अजला टॉमजानोविच 6-3, 3-6, 6-3 से शिकस्त दी। वहीं क्रोएशिया की डोना वेकिक और दुनिया की नंबर-2 चेक रिपब्लिक की कैरोलिना प्लिसकोवा भी तीसरे दौर में पहुंचीं। पुरुष सिंगल्स में वर्ल्ड नंबर-4 रूस के डेनियल मेदवेदेव ने भी जीत दर्ज की।

    गार्बिन ने 2017 में विम्बलडन और 2016 में फ्रैंच ओपन जीता था। महिला सिंगल्स में डोना ने फ्रांस की एलिज कॉर्नेट को 6-4, 6-2 से हराया। वे पहली बार टूर्नामेंट के तीसरे दौर तक पहुंचीं। वहीं, कैरोलिना ने जर्मनी की लौरा सीजमंद को 6-3, 6-3 से हराया। वर्ल्ड नंबर-7 स्विट्जरलैंड की बेलिंडा बेनसिच ने लात्विया की जेलेना ओस्तापेनको को 7-5, 7-5 से शिकस्त दी।

    मेदवेदेव दूसरी बार टूर्नामेंट के तीसरे दौर में पहुंचे
    पुरुष सिंगल्स में चौथी बार टूर्नामेंट में उतरे मेदवेदेव ने स्पेन के पेदरो मार्टिनेज को 7-5, 6-1, 6-3 से शिकस्त दी। वे दूसरी बार टूर्नामेंट के तीसरे दौर में पहुंचे हैं। पिछली बार वे चौथे दौर में ही बाहर हो गए थे। वहीं, 256वीं रैंकिंग प्राप्त लात्विया के इर्नेस्ट्स गुल्बीज ने वर्ल्ड नंबर-55 स्लोवेनिया के अल्जाज बेदेने को 7-5, 6-3, 6-2 से शिकस्त दी।

    ##

    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता स्पेन की गार्बिन मुगुरुजा ऑस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में पहुंची।

  • सानिया मिर्जा टूर्नामेंट से बाहर, पिंडली की चोट के कारण डबल्स के पहले राउंड का मैच बीच में ही छोड़ा

    खेल डेस्क. सानिया मिर्जा ऑस्ट्रेलियन ओपन से बाहर हो गईं। वे आज डबल्स के पहले मैच में यूक्रेन की अपनी जोड़ीदार नादिया किचेनॉक के साथ कोर्ट पर उतरीं थी। उनका मुकाबला शिनयून हैनऔर लिन जू की चाइनीज जोड़ी से था। मैच के दौरान ही सानिया की पिंडली की चोट उभर आई, इसलिए उन्होंने मुकाबला बीच में छोड़ने का फैसला किया। जिस वक्त वे मैच से हटीं, उस समय चाइनीज जोड़ी 6-2 से एक सेट जीत चुकी थीऔर दूसरेमें 1-0 से आगे थी।

    सानिया को प्रैक्टिस के दौरान दाएं पैर की पिंडली में चोट लगी थी। इसलिए वे मैच में पट्टी बांधकर उतरी थीं। इससे उन्हें खेलने में परेशानी हो रही थी। सानिया ने पहले सेट के बाद मेडिकल टाइम आउट भी लिया था। हालांकि, इसके बाद भी उन्हें आराम नहीं मिला।दूसरे सेट का पहला गेम हारने के बाद उन्होंने हटने का फैसला किया।

    रोहन बोपन्ना अब नादिया किचेनॉक के साथ मिक्स्ड डबल्स में उतरेंगे

    इससे पहले सानिया ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के मिक्स्ड डबल्स से हटने का फैसला किया था। उन्हें रोहन बोपन्ना के साथ उतरना था। अब बोपन्ना यूक्रेन की नादिया किचेनॉक के साथ दावेदारी पेश करेंगे। दो साल के ब्रेक के बाद टेनिस कोर्ट पर लौटीं इस भारतीय टेनिस खिलाड़ी ने पिछले हफ्ते ही नादिया के साथ होबार्ट इंटरनेशनल टूर्नामेंट जीता। इन दोनों ने जैंग-पैंग शुआई की चाइनीज जोड़ी को 6-4,6-4 से हराया था।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    सानिया मिर्जा के दाएं पैर की पिंडली में चोट लगी है।

  • क्रोएशिया की डोना पहली बार तीसरे दौर में; दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता मुगुरुजा, बेलिंडा और मेदवेदेव भी जीते

    खेल डेस्क. ऑस्ट्रेलियन ओपन के चौथे दिन गुरुवार का खेल बारिश, तेज हवाओं और धुंध के कारण करीब 4 घंटे की देरी से शुरू हुआ। क्रोएशिया की डोना वेकिस टूर्नामेंट में पहली बार तीसरे दौर तक पहुंची। उन्होंने फ्रांस की एलिज कॉर्नेट को 6-4, 6-2 से हराया। इनके अलावा महिला सिंगल्स में दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता स्पेन कीगार्बिन मुगुरुजा, दुनिया की नंबर-2 चेक रिपब्लिक की कैरोलिना प्लिसकोवा भी तीसरे दौर में पहुंच गईं। वहीं, पुरुष सिंगल्स में वर्ल्ड नंबर-4 रूस के डेनियल मेदवेदेव ने भी जीत दर्ज की।

    महिला सिंगल्स में गार्बिन को मैच में ऑस्ट्रेलिया की अजला टॉमजानोविच ने कड़ी टक्कर दी। तीन सेट तक चले मुकाबले में उन्होंने अजला को 6-3, 3-6, 6-3 से शिकस्त दी। गार्बिन ने 2017 में विम्बलडन और 2016 में फ्रैंच ओपन जीता था। कैरोलिना ने जर्मनी की लौरा सीजमंद को 6-3, 6-3 से हराया। वर्ल्ड नंबर-7 स्विट्जरलैंड की बेलिंडा बेनसिच ने लात्विया की जेलेना ओस्तापेनको को 7-5, 7-5 से शिकस्त दी।

    मेदवेदेव दूसरी बार टूर्नामेंट के तीसरे दौर में पहुंचे
    पुरुष सिंगल्स में चौथी बार टूर्नामेंट में उतरे मेदवेदेव ने स्पेन के पेदरो मार्टिनेज को 7-5, 6-1, 6-3 से शिकस्त दी। वे दूसरी बार टूर्नामेंट के तीसरे दौर में पहुंचे हैं। पिछली बार वे चौथे दौर में ही बाहर हो गए थे। वहीं, 256वीं रैंकिंग प्राप्त लात्विया के इर्नेस्ट्स गुल्बीज ने वर्ल्ड नंबर-55 स्लोवेनिया के अल्जाज बेदेने को 7-5, 6-3, 6-2 से शिकस्त दी।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    दो बार की ग्रैंड स्लैम विजेता स्पेन की गार्बिन मुगुरुजा ऑस्ट्रेलियन ओपन के तीसरे दौर में पहुंची।

  • सानिया मिर्जा टूर्नामेंट से बाहर, पिंडली की चोट के कारण डबल्स का पहले राउंड का मैच बीच में ही छोड़ा

    खेल डेस्क. सानिया मिर्जा ऑस्ट्रेलियन ओपन से बाहर हो गईं। वे आज डबल्स के पहले मैच में यूक्रेन की अपनी जोड़ीदार नादिया किचेनॉक के साथ कोर्ट पर उतरीं थी। उनका मुकाबला शिनयून हैनऔर लिन जू की चाइनीज जोड़ी से था। लेकिन मैच के दौरान उनकी पिंडली की चोट उभर आई। इसलिए उन्होंने मुकाबला बीच में छोड़ने का फैसला किया। जिस वक्त वे मैच से हटीं, उस समय चाइनीज जोड़ी 6-2 से एक सेट जीत चुकी थी और दूसरेमें 1-0 से आगे थी।

    सानिया को प्रैक्टिस के दौरान दाएं पैर की पिंडली में चोट लगी थी। इसलिए वे मैच में पट्टी बांधकर उतरी थीं। लेकिन इससे उन्हें खेलने में परेशानी हो रही थी। उन्होंने पहले सेट के बाद मेडिकल टाइम आउट भी लिया था। हालांकि, इसके बाद भी उन्हें आराम नहीं मिला।दूसरे सेट का पहला गेम हारने के बाद उन्होंने हटने का फैसला किया।

    रोहन बोपन्ना अब नादिया किचेनॉक के साथ मिक्स्ड डबल्स में उतरेंगे

    इससे पहले सानिया ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के मिक्स्ड डबल्स से हटने का फैसला किया था। उन्हें रोहन बोपन्ना के साथ उतरना था। अब बोपन्ना यूक्रेन की नादिया किचेनॉक के साथ दावेदारी पेश करेंगे। दो साल के ब्रेक के बाद टेनिस कोर्ट पर लौटीं इस भारतीय टेनिस खिलाड़ी ने पिछले हफ्ते ही नादिया के साथ होबार्ट इंटरनेशनल टूर्नामेंट जीता। इन दोनों ने जैंग-पैंग शुआई की चाइनीज जोड़ी को 6-4,6-4 से हराया था।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    सानिया मिर्जा के दाएं पैर की पिंडली में चोट लगी है।

Amar ujala

NavBharat Times

Nai Dunia

Deshbandhu

Dabang Dunia

Jansatta

livehindustan

indiatvnews

khaskhabar

dailynews360

  • पाक के तूफानी गेंदबाज अख्तर ने वीरेंद्र सहवाग की उड़ाई खिल्ली, कह दी ऐसी बात


    पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के उस कथन का खंडन किया है, जिसमें सहवाग ने कहा था कि अख्तर भारतीय टीम की इतनी तारीफ इसलिए करते हैं क्योंकि इससे उनकी कमाई होती है।सहवाग के इस बयान के जवाब में अख्तर ने अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें अख्तर ने सहवाग से कहा है कि तुम्हारे सिर पर जितने बाल हैं, मेरे पास उससे कहीं अधिक पैसे हैं। अख्तर ने कहा, तुम्हारे जितने बाल हैं, मेरे पास उससे कहीं अधिक माल (पैसा) है। मुझे पता है कि तुम्हें समस्या इस बात पर है कि मेरे इतने सारे फॉलोअर्स हैं। मैं समझ सकता हूं। तुम जानते हो कि शोएब अख्तर बनने में 15 साल लगे हैं।अख्तर का यह वीडियो सहवाग के एक पुराने वीडियो के सामने आने के बाद आया है। 2016 के उस वीडियो में सहवाग ने कहा था कि अख्तर पैसे कमाने के लिए भारतीय टीम की तारीफ करते हैं। भारत और आस्ट्रेलिया के बीच समाप्त तीन मैचों की वनडे सीरीज के हर मैच का अख्तर ने एनालिसिस किया था और साथ ही उन्होंने विराट कोहली की टीम की 2-1 से जीत के बाद जमकर तारीफ भी की थी। अख्तर के यू-ट्यूब पर लाखों फालोअर्स हैं और वह यू-ट्यूब पर काफी सक्रिय रहते हैं।अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

  • आखिरकार डिस्चार्ज हो गई तीरंदाज शिवांगनी, लापरवाही के चलते गले में लगा था तीर


    असम की तीरंदाज शिवांगनी को 12 दिन बाद एम्स से डिस्चार्ज कर दिया गया है। शिवांगनी को असम के साई सेंटर में अभ्यास के दौरान 8 जनवरी को गले में तीर लग गया था। उन्हें इलाज के लिए 9 जनवरी को एयर लिफ्ट कर दिल्ली एम्स लाया गया था। यहां 11 जनवरी को आपरेशन कर तीर निकाला गया था। डॉक्टरों ने शिवांगनी को कुछ दिन आराम की सलाह दी है। इसके बाद वे फिर से प्रैक्टिस शुरू करेंगी। बता दें कि असम की 12 साल की तीरंदाज शिवांगिनी गोहेन के साई केंद्र में दुर्घटनावश तीर लगने से घायल होने को राज्य तीरंदाजी संघ ने लापरवाही की घटना करार दिया था। संघ ने कहा था कि शिवांगिनी बिना किसी की देखरेख में अभ्यास कर रही थी और यह घटना स्थानीय कोच और अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा है।ज्ञात हो कि यह घटना तब घटी जब भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के गुवाहाटी में क्षेत्रीय केंद्र के अंतर्गत आने वाले दखा देवी रासीवासिया कालेज में अभ्यास केंद्र में वह ट्रेनिंग कर रही थीं। घटना के बाद उन्हें दिल्ली ले जाया गया और एम्स ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया।असम तीरंदाजी संघ के संयुक्त सचिव और राज्य ओलंपिक संघ के कार्यकारी सदस्य पुलिन दास ने कहा था कि साई का अनुबंधित कोच मार्सी खेलो इंडिया के लिए गुवाहाटी जा चुका है। उन्होंने अभ्यास कर रहे खिलाड़ियों को कुछ समय के लिए शिविर रोकने का निर्देश नहीं दिया और न ही कालेज के प्रधानाचार्य अभ्यास की देखरख के लिए मौजूद थे, जिसके चलते ये घटना हुई है। वहीं डॉक्टर वी अग्रवाल ने कहा बताया था कि तीर शिवांगिनी की गर्दन में घुस गया था। जख्म काफी गहरा था इसलिए प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें दिल्ली रेफर कर दिया गया था।ज्ञात हो कि शिवांगिनी स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) की ट्रेनी हैं लेकिन वह खेलो इंडिया गेम्स का हिस्सा नहीं थीं। अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

  • भारत का सर्बिया में धमाका, नेशंस कप में जीते 6 पदक


    भारतीय मुक्केबाज मोनिका (48 किग्रा), रितु ग्रेवाल (51 किग्रा) एम मीना कुमारी (54 किग्रा) और भाग्यबती (75 किग्रा) ने सर्बिया में हुये नौवें नेशंस कप चैंपियनशिप में चार रजत और दो कांस्य सहित देश के लिये कुल छह पदक हासिल किये हैं। 48 किग्रा के लाइट फ्लाएवेट वर्ग में मोनिका ने बढिय़ा शुरूआत की और 1-0 की बढ़त ली, लेकिन फिर वह रूस की लुलिया चुमगालाकोवा के हाथों 1-4 से मुकाबला गंवा बेठी। इंडिया ओपन की स्वर्ण पदक विजेता भाग्यबती कचारी को भी अपने 75 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में मोरक्को की खिलाड़ी से विभाजित फैसले में हार का सामना करना पड़ गया और रजत से संतोष करना पड़ा। अन्य भारतीय मुक्केबाजों में कोलोग्ने विश्वकप पदक विजेता मीना और रितु को भी इटली और चीन की अपनी विपक्षियों से स्वर्ण पदक मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। इससे पहले 60 किग्रा वर्ग में पवित्रा को इटली की रेबेका निकोली ने विभाजित फैसले में हराया जबकि 64 किग्रा वर्ग में बासुमत्री पाविलो को क्रोएशिया की सारा कोस से हारकर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

  • बिहार की जीत से मणिपुर को लगा तगड़ा झटका, ये रहे मैच के Hero


    पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर में खेले गए मुकाबले में बिहार ने मणिपुर को 183 रनों से हरा दिया है। इस जीत के साथ ही बिहार की टीम 5 मैचों से 15 अंक हासिल कर रणजी प्लेट ग्रुप की टीम में पांचवें स्थान पर आ गया है। बता दें कि मणिपुर के कप्तान ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था। जिसे गलत साबित करते हुए बिहारी बल्लेबाजों ने पहली पारी में 431 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया था। इस स्कोर का पीछा करने उतरी मणिपुर की टीम दोनों पारियों में बुरी तरह से लड़खड़ा गई। पहली पारी में मणिपुर ने 94 और दूसरी पारी में 154 रनों का स्कोर खड़ा किया।बिहार की ओर से इस मैच में सलामी बल्लेबाज इंद्रजीत ने बेहतरीन शतकीय पारी खेली। इंद्रजीत के अलावा दूसरे सलामी बल्लेबाज कुमार मृदुल ने 51, उपकप्तान मोहम्मद शाहरुख रहमतुल्लाह ने 71 और अतुल्य ने 64 रनों की उपयोगी पारी खेली। 431 रनों के विशाल स्कोर का पीछा करने उतरी मणिपुर की टीम पहली पारी में ताश के पत्तों की तरह ढह गई। मणिपुर के मात्र 2 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा पार सके। पूरी टीम पहली पारी में 38.1 ओवर में मात्र 94 रनों पर सिमट गई।इसके बाद मणिपुर की टीम दूसरी पारी में रेक्स सिंह की 77 रनों की पारी के दम पर 154 रन बना ही सकी। इस प्रकार बिहार ने इस मुकाबले को एक पारी और 183 रनों के भारी अंतर से अपने नाम किया। गेंदबाजी में बिहार की ओर से तेज गेंदबाज अभिजीत साकेत का जलवा फिर से दिखा। अभिजीत ने पहली पारी में 7 जबकि दूसरी पारी में मणिपुर के तीन बल्लेबाजों को आउट करते हुए कुल 10 विकेट चटकाए। अभिजीत के अलावा शिवम और कप्तान आशुतोष अमन ने 4-4 विकेट चटकाए।अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

  • छत्तीसगढ़ के सामने एक बार फिर हार गई त्रिपुरा, 2 दिन में खत्म होने वाला है खेल


    बीसीसीआई द्वारा आयोजित रणजी ट्रॉफी प्लेट ग्रुप के अंतर्गत नगालैंड के खिलाफ शुरू हुए मैच में बिहार के अभिजीत साकेत अपना जलवा दिखाते हुए नजर आए। अभिजीत ने अपनी धारदार गेंदबाजी से पहली पारी में नगालैंड के 3 बल्लेबाजाें काे पवेलियन का रास्ता दिखाया। साथ ही आशुतोष अमन ने भी 3 विकेट लिए। बता दें कि बल्लेबाजी में शशीम राठौर 46 रन के स्काेर पर नाबाद हैं। पहले दिन के खेल समाप्ति के समय बिहार दो विकेट पर 115 रन बना लिए हैं। शशीम राठौर 46 और बाबुल कुमार 21 रन बना कर जमे हैं। नगालैंड की टीम 166 रन बनाकर आल आउट हाे गई।वहीं दूसरी ओर रणजी ट्रॉफी में डेब्यू कर रहे त्रिपुरा के पल्लब दास ने छत्तीसगढ़ के खिलाफ 76 रन की नाबाद पारी खेली। आपको बता दें कि यह खिलाड़ी का पहला शतक भी है। पल्लब के अलावा टीम के अन्य खिलाड़ी पूरी तरह फ्लॉप रहे। ज्ञात हो कि 7 बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सके। 42 ओवर में 144 रन पर टीम पवेलियन लौट चुकी थी। वीरप्रताप ने शानदार 5 विकेट लिए।अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

samacharjagat