Last Updated: 01 Dec 2020 08:41 AM

India Top Stories

Lokmat Samachar

jagran

Amar ujala

NavBharat Times

Nai Dunia

Deshbandhu

khaskhabar

dailynews360

  • भारत के अगस्त्य जायवाल ने किया कमाल, सिर्फ 14 साल में ग्रेजुएशन कर रच डाला इतिहास


    भारत के अगस्त्य जायवाल ने ऐसा कमाल कर दिखाया है जो इतनी छोटी उम्र मे ंकोई नहीं कर सका। इतना ही बल्कि उन्होंने इससे पहले 9 साल की उम्र में तेलंगाना बोर्ड की 10वीं और 11 साल की उम्र में 12वीं बोर्ड की परीक्षा पास कर दिखाई थी। पढ़ाई के अलावा अगस्त्य राष्ट्रीय स्तर के टेबल टेनिस खिलाड़ी भी हैं।वे अपने दोनों हाथों को एक साथ इस्तेमाल कर सिर्फ 1.72 सेकेंड में ए टू जेड टाइप कर सकते हैंण् इसके अलावा अगस्त्य को गाना गाने का भी शौक है। वे एक बेहतर पियानो भी प्ले कर लेते हैंण् वो इंटरनेशनल मोटिवेशन स्पीकर हैं। लेकिन इन सब के साथ अगस्त्य का सपना एक डॉक्‍टर बनने का है।अगस्त्य की इस कामयाबी से उनके माता.पिता बेहद खुश हैं। उनका कहना है कि श्प्रत्येक बच्चे में विशेष गुण होते हैं इसलिए यदि माता.पिता अपने बच्चों के प्रति व्यक्तिगत ध्यान दें तो हर बच्चा अपने क्षेत्र में इतिहास रच सकता है। आपको बता दें कि जायसवाल दो साल से कमाल कर रहे हैंण् उन्होंने इस छोटी उम्र में 300 से अधिक सवालों के जवाब दिए थे। उनके पेरेंट्स ने अपने गाइडेंस में उनको ट्रेन किया।अगस्त्य जायसवाल के माता.पिता ने कहा कि हमने उसे खेल.खेल वाले वातावरण के तहत प्रशिक्षित किया और हमने हमेशा उसे विषय समझने और अपनी भाषा के साथ पुनः पेश करने के लिए कहाण् वह हमेशा हमसे कई सवाल पूछता है और हम उसका जवाब प्रैक्टिकल तरीके से देते हैं। हमने उसे लिखावट और स्मृति अभ्यास का भी प्रशिक्षण दिया।

    • 27 Nov, 2020 07:13 PM
    • OMG
  • वैज्ञानिकों ने खोज निकाला ततैया का जीनोम, जानकर रह जाएंगे दंग!


    कीट-पतंगों की दुनिया रहस्यों से भरी हुई है। वैज्ञानिक अध्ययनों में कई अवसर आते हैं जब छोटे-छोटे कीट-पतंगों का जीवन और उनके रहन-सहन के तौर-तरीकों से वैज्ञानिकों को नयी दिशा मिलती है। इसी तरह के एक ताजा अध्ययन में भारतीय वैज्ञानिकों ने ततैया के जीनोम अनुक्रमण का खुलासा किया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि ततैया के जीनोम की जानकारी फल मक्खी (ड्रोसोफिला) और ततैया के बीच होने वाले जैविक संघर्ष से संबंधित जटिलताओं को उजागर करने मददगार हो सकती है।यह अध्ययन वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की हैदराबाद स्थित घटक प्रयोगशाला सेंटर फॉर सेलुलर ऐंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (सीसीएमबी) के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया है। शोधकर्ताओं ने ड्रोसोफिला के परजीवी ततैया लेप्टोपिलिना बोलार्डी का उच्च गुणवत्ता युक्त संदर्भ जीनोम पेश किया है। संदर्भ जीनोम को संदर्भ समूह के रूप में भी जाना जाता है। यह एक डिजिटल न्यूक्लिक एसिड अनुक्रम डेटाबेस है, जिसे वैज्ञानिकों द्वारा किसी प्रजाति के आदर्श जीव में जीन्स के सेट के प्रतिनिधि उदाहरण के रूप में संकलित किया जाता है।शोधकर्ताओं का कहना है कि यह जानना दिलचस्प है कि ततैया; ड्रोसोफिला के लार्वा में अंडे देती है और इस तरह ततैया और ड्रोसोफिला के बीच जैविक संघर्ष की शुरुआत होती है। इस संघर्ष में यदि ततैया की जीत होती है, तो प्यूपा से ततैया बाहर निकलता है, अन्यथा ड्रोसोफिला फल मक्खी का जन्म होता है। सीसीएमबी के निदेशक डॉ राकेश मिश्रा ने कहा है कि “ततैया, जिसका वैज्ञानिक नाम लेप्टोपिलिना है, ड्रोसोफिला की एक विशिष्ट परजीवी है। ततैया, ड्रोसोफिला के लार्वा में अंडे देते है और इस तरह मेजबान और परजीवी के बीच एक संघर्ष की शुरुआत होती है। ड्रोसोफिला का वैज्ञानिक अध्ययन में महत्व बेहद अधिक है। ततैया का जीनोम अनुक्रमण करने के बाद अब हम जान चुके हैं कि मेजबान और परजीवी के बीच होने वाले इस संघर्ष के दौरान क्या होता है। जीनोम तकनीक उन जीन्स के संपादन में कारगर हो सकती है, जो ततैया को कमजोर या फिर शक्तिशाली बना सकते हैं।”लेप्टोपिलिना का संबंध कीटों के परजीवी ततैया वंश से है, जो परजीवी ततैया के फिजितिडे कुल से संबंधित है। परजीवी ततैया के इस वंश को मुख्य रूप से इसके तीन ड्रोसोफिला परजीवियों –लेप्टोपिलिना बोलार्डी, लेप्टोपिलिना हेटेरोटोमा और लेप्टोपिलिना क्लैवाइप्स के लिए जाना जाता है। ड्रोसोफिला के इन परजीवियों का उपयोग वैज्ञानिक मेजबान एवं परजीवी के प्रतिरक्षा तंत्र पर पड़ने वाले परस्पर प्रभाव के अध्ययन में करते हैं।शोध पत्रिका जी-3 (जीन्स, जीनोम्स, जेनेटिक्स) में प्रकाशित इस अध्ययन में कुल 25,259 प्रोटीन कोडिंग जीन्स का पता लगाया गया है, जिसमें से 22,729 जीन्स की व्याख्या ज्ञात प्रोटीन सिग्नेचर्स के उपयोग से की जा सकती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अध्ययन में उजागर ततैया जीनोम भावी वैज्ञानिक अध्ययनों के लिए मूल्यवान संसाधन हो सकते हैं, जिसका उपयोग मेजबान एवं परजीवी कीटों की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के बारे में समझ विकसित करने में हो सकता है।

    • 26 Nov, 2020 01:38 PM
    • OMG
  • अब व्हाट्सएप पर भेजे गए मैसेज, फोटो और वीडियो खुद-ब-खुद गायब होंगे, जानिए कैसे


    इंस्टेंट मैसेजिंग एप्प Whatsapp ने इस महीने की शुरुआत में डिसअपीयरिंग मैसेज फीचर को आधिकारिक तौर पर लॉन्च किया था। अब इस फीचर को भारतीय यूजर्स के लिए एंड्रॉयड और iOS प्लैटफोर्म पर जारी कर दिया गया है। इस फीचर की खासियत है कि इसे एक्टिवेट करने के बाद व्हाट्सएप पर भेजे गए मैसेज, फोटो और वीडियो एक सप्ताह के बाद खुद-ब-खुद गायब हो जाएंगे। इस तरह एक्टिवेट करें व्हाट्सएप्प का डिसअपीयरिंग मैसेज फीचरइस फीचर को एक्टिवेट करने के लिए व्हाट्सएप्प को ओपन करें। जिस कॉन्टैक्ट के लिए आप डिसअपीयरिंग मैसेज फीचर को एक्टिवेट करना चाहते हैं, उसे ओपन करें। अब उस कॉन्टैक्ट के नाम पर क्लिक कर दें। क्लिक करते ही आपके सामने उसका व्हाट्सएप अकाउंट ओपन हो जाएगा। यहां आपको डिसअपीयरिंग मैसेज फीचर दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें। इसके बाद आपको ऑन और ऑफ की ऑप्शन दिखाई देगी, यहां आपको ऑन के विकल्प पर क्लिक करना है। अब यह फीचर एक्टिवेट हो जाएगा और भेजे गए मैसेज-फोटो और वीडियो 7 दिन के बाद खुद-ब-खुद गायब हो जाएंगे।

    • 26 Nov, 2020 12:35 PM
    • OMG
  • इस मंदिर में 10 में आया 3 करोड़ का चढ़ावा और 2 किलो चांदी एवं इतना सोना


    शिरडी. महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की तरफ से 16 नवंबर को इजाजत मिलने के बाद दोबारा खुले शिरडी के साईं बाबा मंदिर में मंगलवार यानि 25 नवंबर तक करीब 1 लाख से ज्यादा श्रद्धालू दर्शन के लिए आए। इन दस दिनों में ही साईंबाबा के दर्शन करने आए लोगों ने 3 करोड़ 9 लाख रुपये चढावा चढाए। इसके अलावा, 2 करोड़ 85 लाख 629 रुपये की कीमत के 64 ग्राम सोना और 93 हजार रूपये की कीमत के 2 किलो 800 ग्राम चांदी दान में दिए।इससे पहले, 15 नवंबर को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने धार्मिक स्थलों को दोबारा खोलते हुए कहा था- हम यह नहीं भूल सकते हैं कि खतरनाक कोरोना वायरस अभी भी हम सब के बीच है। हालांकि, यह महामारी धीरे-धीरे कम हो रही है लेकिन फिर भी संतुष्ट नहीं हो सकते हैं। लोगों को अनुशासन का पालन करने की जरूरत है।जैसा अनुशासन और ऐहतियात होली, गणेश चतुर्थी, नवरात्रि के दौरान लोगों ने दिखाए थे वैसे ही अन्य धर्म के लोगों ने भी ईद, माउंद मैरी का त्योहार कोविड-19 प्रोटोकॉल्स को ध्यान में रखकर मनाया ।महाराष्ट्र सरकार की तरफ से जारी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग्स प्रोसिजर्स (एसओपी) के मुताबिक, कोविड-19 कंटेनमेंट जोन के बाद के धार्मिक स्थलों को दोबारा खोलने की इजाजत दी गई है। और इसके समय पर फैसला अथॉरिटीज की तरफ से लिए गए हैं ताकि श्रद्धालुओं को चरणबद्ध तरीके से दर्शन करने की इजाजत मिल सके।

    • 26 Nov, 2020 12:23 PM
    • OMG
  • नई कोरोना गाइडलाइन से दूल्हा-दुल्हन परेशान, किसे बुलाएं, किसे नहीं..बढ़ी उलझन


    नई गाइडलाइंस ने धूमधाम से शादी का सपना संजोए बैठे लोगों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। ऐसे में कई लोग समारोह स्थगित कर रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अब उत्तर प्रदेश में शादी समारोह या किसी भी सार्वजनिक आयोजन में एक समय में 100 से अधिक लोगों को नहीं बुलाया जा सकेगा। ऐसे में शादी की तैयारियों में जुटे आम लोगों की उलझन बढ़ गई है। इधर दिल्ली में भी शादी को लेकर सरकार के नियम से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इस नियम के लागू होने से पहले जिन लोगों ने शादी समारोह के लिए मैरिज हॉल बुक कराए हैं, उन्हें 50-50 लोगों को अलग-अलग समय पर शामिल होने के लिए बता रहे हैं। शादी समारोह के लिए यूपी सरकार की नई गाइडलाइंस में डीजे और बैंड-बाजे की अनुमति की तस्वीर साफ नहीं है। सटीक जानकारी न होने से लोग इधर-उधर भटक रहे हैं। कोई कलेक्ट्रेट के चक्कर लगा रहा है तो कोई थानों में घूम रहा है। इस बीच कई लोगों ने डीजे और बैंड बाजे की बुकिंग ही रद्द कर दी है तो कई जगह लोग शादी समारोह भी स्थगित कर रहे हैं। शादी समारोह में केवल 50 लोगों की अनुमति का मालिकों ने तोड़ भी निकाल लिया है। इस नियम के लागू होने से पहले जिन लोगों ने शादी समारोह के लिए मैरिज हॉल बुक कराए हैं, उन्हें 50-50 लोगों को अलग-अलग समय पर शामिल होने के लिए बता रहे हैं। यह कॉन्सेप्ट उन लोगों को भी पसंद आ रहा है, जिन्होंने इस नियम के लागू होने से पहले ही शादी के कार्ड बांट दिए हैं। अधिकतर लोग इस कॉन्सेप्ट के साथ अपने मेहमानों को शादी समारोह में आने के लिए भी अलग-अलग समय दे रहे हैं, ताकि सभी मेहमान शादी समारोह में शामिल भी हो सकें और कोरोना नियमों का पालन भी हो सके।

    • 26 Nov, 2020 11:08 AM
    • OMG