Last Updated: 23 Jan 2020 10:42 PM

India Top Stories / Most Popular (Last 16 hours)

India Top Stories

 Lokmat Samachar

 bhaskar

  • लगातार सीरीज पर कोहली ने कहा- वह दिन दूर नहीं, जब खिलाड़ी सीधे स्टेडियम में लैंड करेंगे और मैच खेलेंगे

    खेल डेस्क. टीम इंडिया के लगातार क्रिकेट खेलने पर कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को चिंता जाहिर की। कोहली ने कहा कि वह दिन ज्यादा दूर नहीं है, जब खिलाड़ी सीधे स्टेडियम में लैंड करेंगे और मैच खेलेंगे। भारत ने 4 दिन पहले ही 19 जनवरी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज खत्म की है और अब 24 जनवरी को ही उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 मैच खेलना है।2019 वर्ल्डकप के सेमीफाइनल में हार के बाद टीम इंडिया पहली बार न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच खेलेगी।

    कोहली ऑकलैंड में पहले टी-20 मैच से पहले मीडिया से बात कर रहे थे। ऑस्ट्रेलिया सीरीज के बाद बेहद कम समय में न्यूजीलैंड दौरे पर आने पर कोहली ने कहा- यह दिखाता है कि खेल में दबाव किस तरह का हो गया है। मैं सोचता हूं ऐसी यात्राएं और ऐसी जगह पर आना जो टाइम जोन में भारत से 7 घंटे आगे हो, हमेशा ही इन परिस्थितियों में तुरंत ढलना मुश्किल होता है।

    आज काअंतरराष्ट्रीय क्रिकेट यही है- कोहली

    • कोहली ने कहा- मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि इन सारी बातों को भी भविष्य में ध्यान रखा जाएगा। लेकिन, जो है.. सो तो है। आपको दोबारा मैदान पर उतरने के लिए खुद को बेहतर करने के लिए जो भी कर सकते हैं, करना होगा। आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट यही है। यह लगातार होती है।
    • "ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी सीरीज में हमने वनडे मैच खेले। ऐसे में हमने मैदान पर ज्यादा वक्त बिताया। लेकिन, हमने इससे पहले कुछ टी-20 भी खेले।"
    • भारतीय कप्तान ने कहा- केवल टी-20 के अलावा भी हमने काफी क्रिकेट खेली। ऐसे में हम लोगों के लिए यह आसान है कि न्यूजीलैंड में कम वक्त में भी हम खेलने के लिए तैयार रहें। हम इस सीरीज को लेकर काफी उत्साहित हैं। इस साल वर्ल्डकप खेला जाना है और हर टी-20 महत्वपूर्ण है।
    • उन्होंने कहा, "दूसरे देशों की अपेक्षा न्यूजीलैंड का दौरा काफी आरामदायक रहता है। हर दौरा हमें यह बताता कि लोग खेल को किस तरह से देखते हैं। न्यूजीलैंड में खेल को एक जॉब की तरह देखा जाता है, जिसे खिलाड़ी पूरा करते हैं।"

    न्यूजीलैंड से बदले के बारे में सोच भी नहीं सकता, ये बहुत अच्छे हैं- कोहली

    2019 वर्ल्डकप में न्यूजीलैंड से सेमीफाइनल में मिली हार पर कोहली ने कहा- न्यूजीलैंड से बदला लेने के बारे में सोच भी नहीं सकता। अगर आप बदले के बारे में सोचना भी चाहते हैं तो ये लोग इतने अच्छे हैं कि आप ऐसा नहीं कर पाएंगे। यह केवल मैदान पर प्रतिस्पर्धी रहने के बारे में है। जैसा कि मैंने इंग्लैंड में कहा था कि न्यूजीलैंड निश्चित तौर पर वह टीम है, जो अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाली टीमों के लिए मिसाल तय करती है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Virat Kohli on Cricket Schedule & New Zealand T-20 Series News Updates

  • माघ की अमावस्या शुक्रवार को, 10 सरल स्टेप्स में कर सकते हैं देवी लक्ष्मी की पूजा

    जीवन मंत्र डेस्क. शुक्रवार, 24 जनवरी को माघ मास की अमावस्या है। इसे मौनी अमावस्या कहा जाता है। इस दिन मौन रहकर तप, पूजा और ध्यान करने का विशेष महत्व है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार अमावस्या तिथि पर देवी लक्ष्मी की विशेष पूजा करने की परंपरा है और शुक्रवार भी लक्ष्मी पूजन के लिए शुभ दिन माना गया है। यहां जानिए मौनी अमावस्या पर लक्ष्मी पूजा की सरल विधि...
    श्री लक्ष्मी पूजन की सरल विधि 10 स्टेप्स में

    • अमावस्या पर स्नान के बाद किसी मंदिर जाएं या घर के मंदिर में ही लक्ष्मी पूजन की व्यवस्था करें। पूजा शुरू करने से पहले गणेशजी का पूजन करें। भगवान गणेश को स्नान कराएं। वस्त्र अर्पित करें। गंध, पुष्प, चावल चढ़ाएं।
    • गणेशजी के बाद देवी लक्ष्मी की पूजा शुरू करें। माता लक्ष्मी के साथ ही भगवान विष्णु की चांदी, पारद या स्फटिक की प्रतिमा का पूजन कर सकते हैं।
    • देवी-देवताओं की मूर्ति अपने पूजा घर में स्थापित करें। भगवान का आवाहन करें। आवाहन यानी लक्ष्मीजी और विष्णु को आमंत्रित करें, अपने घर बुलाएं।
    • भगवान को अपने घर में सम्मान सहित स्थान दें। यानी आसन दें। ये भावनात्मक रूप से करना चाहिए।
    • लक्ष्मी-विष्णु की प्रतिमाओं को स्नान कराएं। स्नान पहले जल से फिर पंचामृत से और फिर जल से कराना चाहिए। दक्षिणावर्ती शंख में केसर मिश्रित दूध भरें और इससे अभिषेक करें।
    • लक्ष्मी-विष्णु को वस्त्र अर्पित करें। वस्त्रों के बाद आभूषण पहनाएं। पुष्पमाला पहनाएं। सुगंधित इत्र अर्पित करें। प्रसाद चढ़ाएं।
    • कुमकुम से तिलक करें। अब धूप और दीप जलाएं। गुलाब और कमल के फूल चढ़ाएं।
    • बिल्वपत्र और बिल्व फल अर्पित करने से भी महालक्ष्मी की प्रसन्न होती हैं। ये चीजें भी देवी को चढ़ा सकते हैं। चावल अर्पित करें।
    • श्रद्धानुसार घी या तेल का दीपक जलाएं। आरती करें।
    • आरती के बाद परिक्रमा करें। महालक्ष्मी पूजन में ऊँ महालक्ष्मयै नमः और ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करते रहना चाहिए।


    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    amawasya on 24 january, Goddess Lakshmi, Magha month amawasya, laxmi pujan vidhi, friday and amawasya, mouni amawasya

  • धैर्य रखने का दिन है गुरुवार, निवेश करना चाहते हैं तो विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें

    जीवन मंत्र डेस्क. गुरुवार, 23 जनवरी का मूलांक 5 और भाग्यांक 1 है। दिन अंक 3 और मासांक 1 है। न्यूमेरोलॉजिस्ट डॉ. कुमार गणेश के अनुसार गुरुवार को अंक 1 की अंक 5 के साथ प्रबल मित्र युति और अंक 8 के साथ परस्पर प्रबल विरोधी युति है। अंक 8 की अंक 5 के साथ विरोधी युति बनी है। अंक 3 की अंक 5 के साथ विरोधी युति बन रही है और अंक 8 के साथ मित्र युति बनी है। अंकों के इन योगों की वजह से आपके लिए कैसा रहेगा गुरुवार, 23 जनवरी का दिन...

    • अंक 1
    चिकित्सा अधिकारियों के लिए धैर्य धारण करने का समय है। दवा विक्रेताओं के लिए अधिक अनुकूलता रह सकती है। मानसिक जगत बिखरा-बिखरा रह सकता है।
    क्या करें- चींटियों को दाना डालें।
    महत्वपूर्ण अंक- 6, महत्वपूर्ण रंग- क्रीम
    • अंक 2
    सीए और सीएस के लिए समय उन्नतिकारक सिद्ध हो सकता है। परीक्षा-परिणाम पक्ष में आ सकता है। स्वास्थ्य बिगड़ सकता है।
    क्या करें- नारायण कवच का पाठ करें।
    महत्वपूर्ण अंक- 5, महत्वपूर्ण रंग- हरा
    • अंक 3
    बाजार में नया निवेश करना चाहते हैं तो विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें, म्यूचुअल फंड का पुराना निवेश लाभ दे सकता है। कमर में खिंचाव दुखी कर सकता है।
    क्या करें- शिवलिंग पर मीठा दूध चढ़ाएं।
    महत्वपूर्ण अंक- 2, महत्वपूर्ण रंग- सफेद
    • अंक 4
    विदेश में जॉब पाने के लिए प्रयासरत लोगों के लिए अनुकूलता रह सकती है। हालांकि इसका प्रतिशत कुछ कम रह सकता है। नर्सिंगकर्मियों के लिए समय राहतभरा सिद्ध हो सकता है। व्यर्थ कार्यों में ऊर्जा लगाने से बचें।
    क्या करें- अपने कुलदेवता को पारंपरिक भोग लगाएं।
    महत्वपूर्ण अंक- 3, महत्वपूर्ण रंग- पीला
    • अंक 5
    महिला वकीलों के लिए प्रेक्टिस में खास अनुभव हो सकता है। ट्रांसफर के लिए बात कर रखी है तो कुछ प्रगति हो सकती है। दांत-दर्द परेशान कर सकता है।
    क्या करें- गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ करें।
    महत्वपूर्ण अंक- 9, महत्वपूर्ण रंग- लाल
    • अंक 6
    दूर की यात्रा कर सकते हैं या इसे अंतिम रूप दे सकते हैं। किसी खास काम के लिए पर्याप्त बाहरी सहयोग मिल सकता है। पर्याप्त आराम करें।
    क्या करें- जल में चंदन मिला कर सूर्य भगवान को अर्घ्य दें।
    महत्वपूर्ण अंक- 1, महत्वपूर्ण रंग- सुनहरा
    • अंक 7
    चुनावी लड़ाई लड़ रहे हैं तो बहुत विश्वसनीय व गोपनीय ढंग से लड़ें, अन्यथा निराशा गले पड़ सकती है। प्रमोशन की प्रतीक्षा कर रहे अधिकारियों को अभी कुछ समय ठहरना पड़ेगा। हड्डी संबंधी दर्द को लेकर अतिरिक्त सजगता बरतें।
    क्या करें- सफेद वस्तु की भीख दें।
    महत्वपूर्ण अंक- 7, महत्वपूर्ण रंग- जामुनी
    • अंक 8
    ट्रान्सपोर्टेशन वालों के लिए फायदे का सौदा हो सकता है। ऑफिस या दुकान बेचना चाहते हैं तो आगे बढ़ें। कोशिश करें कि जैसे हैं, वैसे ही रहें।
    क्या करें- कुबेर कवच का पाठ करें।
    महत्वपूर्ण अंक- 4, महत्वपूर्ण रंग- नीला
    • अंक 9

    आरटीओ कार्मिकों के लिए खुशखबरी वाला समय है। रेडीमेड गारमेंट्स के कारोबारियों के लिए लाभकारी स्थिति रह सकती है। दिमाग को बेकार भटकने से रोकें।
    क्या करें- हनुमान चालीसा का 3 बार पाठ करें।
    महत्वपूर्ण अंक- 8, महत्वपूर्ण रंग- काला



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    guruwar rashifal, thursday rashifal, 23 January rashifal, ank jyotish, ank rashifal, aaj ka rashifal

  • 175 साल बाद मकर राशि में सूर्य, शनि, बुध के योग में गुप्त नवरात्रि की शुरुआत 25 जनवरी से

    जीवन मंत्र डेस्क. शनिवार, 25 जनवरी से माघ मास की गुप्त नवरात्रि शुरू हो रही है। हिन्दी पंचांग के अनुसार एक वर्ष में कुल चार नवरात्रि आती हैं, माघ मास, चैत्र मास, आषाढ़ मास और आश्विन माह में। ये चारों नवरात्रि ऋतुओं के संधिकाल में आती हैं। इनमें से माघ और आषाढ़ मास की नवरात्रि गुप्त होती है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जब भी मौसम बदलता है तो हमें खानपान में सावधानी रखनी होती है। नवरात्रि में व्रत-उपवास करने से ऋतु बदलते समय मौसमी बीमारियों से सुरक्षा हो जाती है। इस साल गुप्त नवरात्रि की शुरुआत में ग्रहों के अद्भुत संयोग बन रहे हैं। 25 जनवरी को सूर्य, बुध, शनि और चंद्र मकर राशि में रहेंगे। इससे पहले इन ये ग्रहों के मकर राशि में रहते हुए गुप्त नवरात्रि 175 साल पहले 7 फरवरी 1845 मनाई गई थी। इस नवरात्रि से पहले शनि का राशि परिवर्तन हुआ है। जानिए गुप्त नवरात्रि से जुड़ी खास बातें…

    दस महाविद्याओं के लिए की जाती है साधना

    भक्ति संबंधी साधनाओं के लिए यह नवरात्रि का समय श्रेष्ठ होता है। गुप्त नवरात्रि दस महाविद्या में विशेष रूप से दस महाविद्याओं के लिए साधना की जाती है। इनके नाम है, मां काली, तारा देवी, षोडषी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्ता, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी, और कमला देवी। इन गुप्त साधनाओं के लिए कठीन नियमों का पालन करना होता है। इसीलिए बिना जानकारी के अथवा योग्य गुरु की शिक्षा के बिना इन साधनाओं को नहीं करना चाहिए।

    30 साल बाद गुप्त नवरात्रि में शनि मकर राशि में

    इस बार 30 वर्षों के बाद गुप्त नवरात्रि में शनि अपनी स्वयं की मकर राशि में है। 23 जनवरी की रात शनि ने धनु से मकर राशि में प्रवेश किया है। गुरु अपनी स्वयं की धनु राशि में है। मंगल भी अपनी वृश्चिक राशि में रहेगा। मकर राशि में चार ग्रह सूर्य, बुध, शनि एवं चंद्र रहेंगे। इससे पूर्व 175 साल पहले 7 फरवरी 1845 को ऐसा संयोग बना था। इस समय गुरु अपनी स्वयं की राशि धनु में नहीं बल्कि मीन में था।

    नवरात्रि में करें देवी के नौ स्वरूपों की पूजा

    नवरात्रि में शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री, इन नौ स्वरूपों की विशेष पूजा अलग-अलग दिन की जाती है।
    मां शैलपुत्री को गाय के घी से बने सफेद व्यंजनों का भोग लगाना चाहिए।

    • ब्रह्मचारिणी मिश्री जैसे मीठे भोग लगाने चाहिए। इनकी पूजा में मिश्री, चीनी और पंचामृत का भोग लगाएं।
    • मां चंद्रघंटा को दूध से बनी चीजें जैसे खीर, रसगुल्ला और मेवे से बनी मिठाइयां चढ़ा सकते हैं।
    • मां कूष्मांडा को शुद्ध देसी घी से बने मालपुए का भोग देवी मां के इस स्वरूप को लगाना चाहिए।
    • मां स्कंदमाता को केले अर्पित करना चाहिए।
    • मां कात्यायनी को शुद्ध शहद का भोग लगाकर पूजन करना चाहिए।
    • मां कालरात्रि को गुड़ और गुड़ से बने व्यंजन चढ़ाना चाहिए।
    • मां महागौरी को नारियल चढ़ाना चाहिए।
    • मां दुर्गा को हलवा-पूरी अर्पित कर सकते हैं। नवरात्रि के अंतिम दिन छोटी कन्याओं को हलवा-पुरी वितरीत करना चाहिए।


    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Gupta Navaratri, Sun, Saturn, Mercury in capricorn, makar rashi me shani, shani ka rashi parivartan, magh maas navratri

  • 24 जनवरी से सूर्य और शनि रहेंगे एक ही राशि में; 21 दिन साथ रहेंगे पिता-पुत्र

    जीवन मंत्र डेस्क. 24 जनवरी को मौनी अमावस्या है और इस दिन शनि देव का राशि परिवर्तन हो रहा है। इसके साथ ही शनि देव अपनी राशि मकर में गोचर करने लगेंगे। जहां पहले से ही उनके शत्रु माने जाने वाले सूर्य देव भी मौजूद रहेंगे। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के ज्योतिषाचार्य पं गणेश मिश्रा के अनुसार शनि अपने पिता सूर्य को अपना दुश्मन मानते हैं। इसलिए इन दोनों ग्रहों की युति कभी भी अच्छी नहीं मानी जाती। साथ ही बुध भी पहले से ही मकर राशि में विराजमान हैं। बुध और सूर्य के मिलने से बुधादित्य योग बन रहा है।

    • पं मिश्रा ने बताया कि सूर्य, बुध और शनि की युति अच्छा संकेत नहीं है, जबकि सिर्फ सूर्य और बुध की युति शुभ मानी गई है। इससे व्यापार और व्यवसाय में सफलता हासिल होती है। सूर्य और शनि की युति एक अशुभ योग है। इसके कारण जातकों को सफलता हासिल करने में देरी होती है। पिता-पुत्र के संबंध खराब हो जाते हैं। 31 जनवरी को बुध के राशि बदलने तक ये तीनों ग्रह एक साथ रहेंगे। इसके बाद सूर्य देव और शनि देव ही मकर राशि में विराजमान रहेंगे। सूर्य 13 फरवरी को कुंभ राशि में जाएंगे। तो वहीं शनि अगले ढाई साल तक मकर राशि में ही स्थित रहने वाले हैं।

    24 जनवरी से लेकर 13 फरवरी तक इन ग्रहों का कुछ ऐसा असर रहेगा 12 राशियों पर

    मेष -मेहनत ज्यादा करनी पड़ेगी। जीवनसाथी के साथ संबंध अच्छे रहेंगे।

    वृष - पारिवारिक रूप से समय उतार-चढ़ाव भरा रहेगा। सेहत को लेकर खास सावधानी बरतें।

    मिथुन - ढैया शुरू होगा। आर्थिक स्थिति में गिरावट आने के आसार हैं। करियर की दृष्टि से 13 फरवरी तक का समय निराशाजनक।

    कर्क - जीवनसाथी की सेहत का खास ख्याल रखना होगा। शनि आपके लिए शुभ रहने वाले हैं।

    सिंह - शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। माता की सेहत बिगड़ सकती है।

    कन्या - माता-पिता की सेहत खराब रहेगी। आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी।

    तुला - ढैया शुरू होगा। स्थान परिवर्तन के योग बनेंगे। अचानक से दुखों का सामना करना पड़ेगा। सफलता के नए अवसर मिलेंगे।

    वृश्चिक - माता-पिता की सेहत बिगड़ सकती है। पेट संबंधित रोग परेशान कर सकते है।

    धनु - साढ़े साती का अंतिम चरण। कड़ी मेहनत पर धन लाभ होगा। जीवनसाथी की सेहत काफी बिगड़ सकती है।

    मकर - साढ़े साती का दूसरा चरण। प्रेम संबंधों को लेकर थोड़ा सावधान रहें। नये लव रिलेशन बनाने से बचे। खर्चों में बढ़ोतरी होगी।

    कुंभ - साढ़े साती का पहला चरण। आर्थिक मोर्चे पर सफलता। शत्रु परेशान करेंगे।

    मीन - पढ़ाई में परेशानी। आपके खर्चों में बढ़ोतरी होगी।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Surya Shani Will be in Same Rashi Shani Rashi Parivartan on 24 January Surya Shani Together till 13 February for 21 days

 jagran

 Amar ujala

 NavBharat Times

 Nai Dunia

 Deshbandhu

 Dabang Dunia

 Jansatta

 livehindustan

 aajtak.intoday

 saharasamay

 dainiktribuneonline

 pratahkal

 loktej

 tehelkahindi

 hindi.business-standard

 sandhyapravakta

 divyahimachal

 navbharat

 chauthiduniya