Last Updated: 15 Dec 2018 05:42 AM

India Top Stories / Most Popular (Last 16 hours)

India Top Stories

 Lokmat Samachar

 bhaskar

  • वृष राशिफल, 25 Oct 2018: आज क्या अच्छा हो सकता है आपके साथ और किन मामलों में संभलकर रहना होगा

    वृष राशिफल, 25 Oct 2018 | Aaj ka Vrishabha rashifal: वृष राशि वालों आज आप आलसीपन के कारण आप कुछ काम अधूरे भी छोड़ सकते हैं। आज आपको अपने जिद्दी स्वभाव पर कंट्रोल करने की कोशिश करने की आवश्यकता है, आप कोई भी काम पक्षपातपूर्ण तरीके से न करें। आज 25 Oct 2018 को आपके जीवन में क्या है पॉजिटिव, क्या है नेगेटिव पढ़ें विस्तार से दैनिक भास्कर के इस पेज पर।

    आज क्या अच्छा हो सकता है वृष राशि वालों के वालों के साथ

    पद और पैसों के सिलसिले में अधिकारियों से बातचीत होने के योग बन रहे हैं। प्रमोशन जैसी स्थिति भी आज बन सकती है। कुछ नया करके दिखा सकते हैं। बातचीत करने का तरीका बदलें। पैसों की स्थिति पर गंभीरता से विचार करें।आपके लिए दिन अच्छा साबित हो सकता है। हर काम अच्छी तरह से पूरा हो जाएगा। कुछ योजनाओं और कामों में आप बदलाव कर सकते हैं। दोस्तों और भाइयों से आपको सहयोग मिलेगा। जो भी प्लानिंग आपके दिमाग में है, उसे किसी के सामने न रखें।

    आज किन मामलों में वृष राशि वालों को संभलकर रहना होगा

    लंबीचौड़ी बातें करने से आपको बचना होगा। आपको एक्स्ट्रा दौड़भाग करनी पड़ सकती है। कोई करीबी व्यक्ति आपका गलत फायदा भी उठा सकता है। देनदारी के मामले समझदारी से न निपटाए नहीं तो किसी से कोई बहस हो सकती है। फालतू खर्चा करने से बचें।

    जानिए वृष राशि वाले क्या करें और क्या नहीं

    घीशक्कर खाएं।

    कुछ ऐसी रहेगी आज वृष राशि वालों की लव लाइफ

    दिन की शुरुआत सामान्य रहेगी। किसी बात पर जीवनसाथी से अनबन हो सकती है।

    नौकरी, बिजनेस और करियर के लिए कुछ ऐसा रहेगा वृष राशि वालों का दिन

    निवेश करते समय सावधानी रखें। धन लाभ होगा। वृष राशि के स्टूडेंट्स को ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी।

    सेहत के मामले में कुछ ऐसा रहेगा आपका दिन

    सेहत थोड़ी खराब हो सकती है। एलर्जी या जोड़ों का दर्द भी हो सकता है।


    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    आज का वृष राशिफल | Daily Taurus Horoscope | Vrishabha Rashi ka Rashifal, 25 Oct 2018

  • प्रसाद खाने से तबीयत बिगड़ी, 5 की मौत; 72 अस्पताल में भर्ती

    बेंगलुरु.कर्नाटक के चामराजनगर जिले में शुक्रवार कोप्रसाद खाने के बाद करीब 90 लोगों की तबीयत बिगड़ गई। इनमें से पांच की मौत हो गई। एसपी धर्मेंद्र कुमार मीणा ने बताया कि 72 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से 12 की हालत गंभीर है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Many people hospitalized After consuming prasad in Karnataka

    • 14 Dec, 2018 07:39 PM
    • OMG
  • अब खेलें तम्बोला और पाएं हर दिन उपहार। खेलें रोज़ और जीतें रोज़ दैनिक भास्कर ऍप के साथ।

    दैनिक भास्कर प्लस पर तम्बोला हुआ और भी बड़ा और बेहतर। अब आप पा सकते है हर दिन उपहार। जल्द ही दैनिक भास्कर ऍप अपडेट करें और खेलें ।

    तंबोला में रजिस्ट्रेशन और खेलने के लिए ये स्टेप लें...



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Db app Market plus Tambola special offer

    • 14 Dec, 2018 07:27 PM
    • OMG
  • रविवार को सूर्य बदलेगा राशि और शुरू हो जाएगा खर मास, इस महीने में व्रत और पूजा का खास महत्व

    रिलिजन डेस्क। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, सूर्य जब धनु राशि में होता है तो उस समय को मल मास कहते हैं। इस बार 16 दिसंबर से मल मास शुरू हो रहा है, जो 14 जनवरी 2019 तक रहेगा। धर्म ग्रंथों के अनुसार, खर (मल) मास को भगवान पुरुषोत्तम ने अपना नाम दिया है। इसलिए इस मास को पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं। इस मास में भगवान की आराधना करने का विशेष महत्व है।
    धर्मग्रंथों के अनुसार, इस मास में सुबह सूर्योदय से पहले उठकर शौच, स्नान, संध्या आदि करके भगवान का स्मरण करना चाहिए और पुरुषोत्तम मास के नियम पूरे करने चाहिए। इससे भगवान की कृपा बनी रहती है।
    इस महीने में तीर्थों, घरों व मंदिरों में जगह-जगह भगवान की कथा होनी चाहिए। भगवान की विशेष पूजा होनी चाहिए और भगवान की कृपा से देश तथा विश्व का मंगल हो एवं गो-ब्राह्मण तथा धर्म की रक्षा हो, इसके लिए व्रत-नियम आदि का आचरण करते हुए दान, पुण्य और भगवान की पूजा करना चाहिए। पुरुषोत्तम मास के संबंध में धर्म ग्रंथों में लिखा है-

    येनाहमर्चितो भक्त्या मासेस्मिन् पुरुषोत्तमे।
    धनपुत्रसुखं भुकत्वा पश्चाद् गोलोकवासभाक्।।

    अर्थात- पुरुषोत्तम मास में नियम से रहकर भगवान की विधिपूर्वक पूजा करने से भगवान अत्यंत प्रसन्न होते हैं और भक्तिपूर्वक उन भगवान की पूजा करने वाला यहां सब प्रकार के सुख भोगकर मृत्यु के बाद भगवान के दिव्य गोलोक में निवास करता है।

    खर मास में करें इस मंत्र का जाप
    धर्म ग्रंथों में ऐसे कई श्लोक भी वर्णित है जिनका जाप यदि खर मास में किया जाए तो अतुल्य पुण्य की प्राप्ति होती है। प्राचीन काल में श्रीकौण्डिन्य ऋषि ने यह मंत्र बताया था। मंत्र जाप किस प्रकार करें इसका वर्णन इस प्रकार है-
    कौण्डिन्येन पुरा प्रोक्तमिमं मंत्र पुन: पुन:।
    जपन्मासं नयेद् भक्त्या पुरुषोत्तममाप्नुयात्।।
    ध्यायेन्नवघनश्यामं द्विभुजं मुरलीधरम्।
    लसत्पीतपटं रम्यं सराधं पुरुषोत्तम्।।


    अर्थात- मंत्र जपते समय नवीन मेघश्याम दोभुजधारी बांसुरी बजाते हुए पीले वस्त्र पहने हुए श्रीराधिकाजी के सहित श्रीपुरुषोत्तम भगवान का ध्यान करना चाहिए।

    मंत्र
    गोवर्धनधरं वन्दे गोपालं गोपरूपिणम्।
    गोकुलोत्सवमीशानं गोविन्दं गोपिकाप्रियम्।।

    इस मंत्र का एक महीने तक भक्तिपूर्वक बार-बार जाप करने से पुरुषोत्तम भगवान की प्राप्ति होती है, ऐसा धर्मग्रंथों में लिखा है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Mal Mas, Mal Mas will start from Dec. 16, Mal Maas 2018

  • मोदी की विदेश यात्राओं पर 2000 करोड़ और योजनाओं के प्रचार में 5200 करोड़ रुपए हुए खर्च

    नई दिल्ली. एनडीए सरकार ने साढ़े चार साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों और योजनाओं के प्रचार में करीब 7200करोड़ रुपए खर्च किए। मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद 84 विदेश दौरे किए, जिसमें करीब 280 मिलियन डॉलरयानी 2 हजार करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। मोदी की महत्वकांक्षी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में वर्तमान केंद्र सरकार ने 5200 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

    1. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक,विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने संसद में एक सवाल के जवाब में बताया कि प्रधानमंत्री ने जितनी बार विदेश यात्रा की, उनमें सबसे ज्यादा खर्च एयर इंडिया वन के रखरखाव और सुरक्षित हॉटलाइन को स्थापित करने में लगे हैं। इसी तरह प्रचार में हुए खर्च के बारे में सूचना प्रसारण राज्य मंत्री राजवर्धन राठौर ने जवाब दिया।

    2. प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने दुनिया के लगभग सभी बड़े नेताओं से मुलाकात की है। इनमें अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे शामिल हैं। ज्यादातर मुलाकातें वैश्विक मामलों में भारत के प्रभाव को बढ़ावा देने और अपने रणनीतिक हितों को सुरक्षित करने के लिए की गईं।

    3. मोदी की कुछ यात्राएं ,जिनमें वुहान में जिनपिंग के साथ अनौपचारिक मुलाकात शामिल है, कूटनीतिक सफलता के तौर पर देखा जाता है। चीन के राष्ट्र प्रमुख के साथ यह बैठक उस समय हुई थी, जब डोकलाम विवाद कोे लेकर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने थीं। नवंबर 2016 में नोटंबदी के ऐलान के बाद मोदी जापान दौरे पर गए थे, जिसपर विपक्ष ने काफी सवाल उठाए थे।

    4. साल योजनाओं के प्रचार में खर्च (करोड़ में)
      2014-15 979.78
      2015-16 1,160.16
      2016-17 1,264.26
      2017-18 1,313.57
      इस साल 7 दिसंबर तक 527.96








      1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
        PM Narendra Modi spent Rs 65 billion on 84 foreign trips and advertisements

        • 14 Dec, 2018 07:14 PM
        • OMG

 jagran

 Amar ujala

 NavBharat Times

 Nai Dunia

 Deshbandhu

 Dabang Dunia

 Jansatta

 livehindustan

 hindi.moneycontrol

 liveindia

 aajtak.intoday

 saharasamay

 dainiktribuneonline

 loktej

 tehelkahindi

 hindi.business-standard

 sandhyapravakta

 divyahimachal

 navbharat

 chauthiduniya

 rajexpress

 sanmarg

 tarunmitra

 dunvalleymail