Last Updated: 18 Feb 2019 03:26 PM

India Top Stories / Most Popular (Last 16 hours)

India Top Stories

 sambhaavnews.com

 divyabhaskar

 Bhaskar Gujarat

  • पुलवामा अटैक का गुस्साः दूल्हा-दुल्हन के हाथ में था एक पोस्टर, जिसपर लिखा था- 'कौन कहता है भारत में सिर्फ 1427 शेर बचे हैं, 13 लाख शेर तो बॉर्डर पर तैनात हैं'

    वडोदरा, गुजरात जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को CRPF जवानों पर हुए आतंकी हमले के विरोध में देशभर में गुस्सा फूट पड़ा है। लोग देश और शहीदों के प्रति अपनी भावनाएं अपने-अपने तरीकों से जता रहे हैं।गुजरात के वडोदरा में एक शादी के दौरान वरमाला के दौरानदूल्हा-दुल्हन तिरंगा लेकर स्टेज पर पहुंचे। इससे पहले दुल्हन बारात में भी तिरंगा लेकर शामिल हुई।


    - आमतौर पर अपनी शादी को यादगार बनाने दूल्हा-दुल्हन और उसके परिजन कोई कसर नहीं छोड़ते। लेकिन जब बात देश की हो, तो कुछ भी त्याग किया जा सकता है। वडोदरा सेंट्रल जेल में सुपरवाइजर महेश विरार की शादी अनाथ लड़की दीपिका चौहान से हुई।


    - शादी के लिए दोनों ने काफी इंतजाम किए थे, लेकिन अचानक पुलवामा अटैक हो गया। इसके बाद दोनों ने तय किया किशादी को शहीदों के नाम समर्पित किया जाएगा।


    - बारात में दुल्हन भी शामिल हुई। कपल अपने हाथ में एक पोस्टर लिए था। उस पर लिखा था- 'कौन कहता है कि भारत में सिर्फ 1427 शेर बचे हैं। 13 लाख शेर तो बॉर्डर पर तैनात हैं।'


    - वहीं बाराती भी हाथों में तिरंगा लेकर देशभक्ति गीतों पर नाचते हुए जा रहे थे। महेश ने कहा-वे शादी में मिले गिफ्ट्स आदि शहीदों के लिए सौंप देंगे।


    - महेश के पिता दिनेश आंगनबाड़ी केंद्र में खाना सप्लाई करते हैं। उन्होंने शादी में सिर्फ 700 लोग बुलाए थे, लेकिन देशभक्ति का जज्बा देखकर 1700 लोग पहुंच गए।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    A unique marriage in Gujarat, a procession in the name of martyrs

  • पुलवामा अटैक का गुस्सा: वरमाला में स्टेज पर तिरंगा लेकर पहुंचे दूल्हा-दुल्हन, अनूठी शादी में बुलाए थे 700 मेहमान, पहुंच गए 1700

    वडोदरा, गुजरात जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को CRPF जवानों पर हुए आतंकी हमले के विरोध में देशभर में गुस्सा फूट पड़ा है। लोग देश और शहीदों के प्रति अपनी भावनाएं जताने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। गुजरात के वडोदरा में एक शादी के दौरान वरमाला के दौरानदूल्हा-दुल्हन तिरंगा लेकर स्टेज पर पहुंचे। इससे पहले दुल्हन बारात में भी तिरंगा लेकर शामिल हुई।
    -आमतौर पर अपनी शादी को यादगार बनाने दूल्हा-दुल्हन और उसके परिजन कोई कसर नहीं छोड़ते। लेकिन जब बात देश की हो, तो कुछ भी त्याग किया जा सकता है। वडोदरा सेंट्रल जेल में सुपरवाइजर महेश विरार की शादी अनाथ लड़की दीपिका चौहान से हुई।
    -शादी के लिए दोनों ने काफी इंतजाम किए थे, लेकिन अचानक पुलवामा अटैक हो गया। इसके बाद दोनों ने तय किया कि; शादी को शहीदों के नाम समर्पित किया जाएगा।
    -बारात में दुल्हन भी शामिल हुई। कपल अपने हाथ में एक पोस्टर लिए था। उस पर लिखा था-'कौन कहता है कि भारत में सिर्फ 1427 शेर बचे हैं। 13 लाख शेर तो बॉर्डर पर तैनात हैं।'
    -वहीं बाराती भी हाथों में तिरंगा लेकर देशभक्ति गीतों पर नाचते हुए जा रहे थे। महेश ने कहा कि; वे शादी में मिले गिफ्ट्स आदि शहीदों के लिए सौंप देंगे।
    -महेश के पिता दिनेश आंगनबाड़ी केंद्र में खाना सप्लाई करते हैं। उन्होंने शादी में सिर्फ 700 लोग बुलाए थे, लेकिन देशभक्ति का जज्बा देखकर पहुंच गए 1700 लोग।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    A unique marriage in Gujarat, a procession in the name of martyrs

  • ट्रेन में भाजपा नेता की हत्या करने वाले भाड़े के दोनों आराेपी गिरफ्तार

    गांधीनगर. गुजरात में पूर्व विधायक तथा प्रदेश भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष जयंती भानुशाली (54) की गत आठ जनवरी को चलती हुई ट्रेन के फर्स्ट एसी कोच में सनसनीखेज हत्या करने वाले दोनों भाड़े के हत्यारों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

    पुणे के यरवडा में रहते हैं
    सीआईडी क्राइम के पुलिस महानिदेशक आशीष भाटिया ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि पुणे के येरवडा निवासी दोनों अपराधियों शशिकांत कांबले और अशरफ शेख को कल ही दक्षिण गुजरात के डांग जिले के सापुतारा से पकड़ लिया गया। इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता और एक अन्य पूर्व विधायक छबील पटेल ने दोनों से मुंबई में मिल कर 30 लाख रुपये में हत्या कराने की बात तय की थी और पांच लाख रुपये बतौर एडवांस दिये थे।


    दोनों पहले अहमदाबाद फिर भुज आए
    दोनों आरोपी अहमदाबाद और भुज आये थे और हत्या की योजना पहले 31 दिसंबर को थी। ज्ञातव्य है कि इस सनसनीखेज हत्या की गुत्थी सुलझाने का दावा करते हुए पुलिस ने पहले बताया था कि इसका षडयंत्र कांग्रेस से भाजपा में आये पूर्व विधायक छबील पटेल ने भानुशाली से रंजिश रखने वाली एक महिला मनीषा गोस्वामी के साथ मिल कर रचा था।


    चलती ट्रेन में हत्या
    भानुशाली की गत सात-आठ जनवरी की दरम्यानी रात को उस समय मोरबी जिले में चलती ट्रेन में उक्त दो भाड़े के हत्यारों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी जब वे सयाजीनगरी एक्सप्रेस के एच 1 कोच में भुज से अहमदाबाद आ रहे थे। गत दो जनवरी को ही विदेश (मस्कट) भाग गये छबील पटेल और भूमिगत हो गई मनीषा को अब तक पकड़ा नहीं जा सका है। भानुशाली वर्ष 2007 से 2012 तक कच्छ जिले की अबडासा सीट पर भाजपा के विधायक थे। पटेल ने 2012 में तत्कालीन कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर उन्हें हराया था।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    जयंती भानुशाली

  • 6 साल की मासूम को 7 साल बाद मिला न्याय, दुष्कर्मी को फांसी की सजा

    अंजार. रापर के सई गांव की 6 साल की मासूम ज्यादती का शिकार हुई थी। इसके बाद उसकी मौत हो गई। मामला 7 साल तक चलता था, आखिरकार कोर्ट ने आरोपी देवाघना कोली को फांसी की सजा सुनाई है। इसके पहले 2018 में गांधीधाम कोर्ट ने एक महिला को दो लोगों की हत्या के आरोप में फांसी की सजा सुनाई थी।


    सहेलियों के साथ घूमने गई थी
    दिल दहला देने वाली यह घटना 15 जून 2012 को घटी थी। जब सई गांव की चीथरिया वाडी में चार नाबालिग सहेलिया घूमने और नहाने गई थी। इतने में वहां देवा घना कोली वहां पहुंच गया, उसने तीन सहेलियों को डरा-धमकाकर भगा दिया। उसके बाद 6 साल की मासूम को उठा ले गया। जहां देवा ने उसके साथ दुष्कर्म किया और उसकी हत्या कर दी।


    मासूम के दादा को सहेलियों ने जानकारी दी
    घबराई हुई बच्चियों ने देवा की करतूत की जानकारी मासूम के दादा को दी। दादा तुरंत वाड़ी पहुंचे, तो उन्हें देखकर देवा भागने लगा। दादा के शोर मचाने पर आसपास के लोगों ने देवा काे पकड़ लिया। फिर जब मासूम की तलाश की गई, तो वह खून से लथपथ निर्वस्त्र हालत में मिली। उसके शरीर में कोई हरकत नहीं थी। लोगों ने देवा को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया था, बाद में उसे पुलिस को सौंप दिया गया।


    फांसी की सजा की दलील
    सरकारी वकील डी बी जोगी ने घटना की गंभीरता को ध्यान में रखकर देवा कोली को फांसी की सजा की दलील दी। पूरे घटनाक्रम को ध्यान में रखते हुए सेशन जज अंजार ने कोली को फांसी की सजा सुनाई।


    2018 में भी एक महिला को फांसी की सजा सुनाई गई थी
    2017 में गांधीधाम की सुंदरपुरी में घर के काम के मामले में मां को धमकी देते हुए दो सगी बहनों और मां पर तलावार से हमला किए जाने पर मां और एक बहन की मौत हो गई थी। गांधीधाम कोर्ट ने इस मामले को रेटेस्ट ऑफ दे रेयर मानते हुए 2018 में आरोपी मंजू बेन डुंगरिया को फांसी की सजा सुनाई थी।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    Death sentance to bad work accused in 2012 case of rapars sai gam in Anjar

  • बेटियों की शादी का निमंत्रण पत्र बांटकर लौटते पिता की मौत

    सूरत. मांगरोल के नंदाव पाटिया के पास एक अनजाने वाहन की टक्कर से दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इस दौरान इलाज मिलने के पहले ही एक की मौत हो गई। दूसरे को 108 के माध्यम से अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसकी हालत गंभीर है। मृतक अरविंद भाई वसावा की दो बेटियों की शादी 3 मार्च को होनी थी, जिसका निमंत्रण पत्र बांटकर वे लौट रहे थे।


    पूरे घर में छा गया मातम
    खेत में मजदूरी करने वाले अरविंद भाई की मौत के बाद पूरे घर में मातम छा गया। उनकी चार संतानें थीं। जिसमें से दो बेटियों की शादी 3 मार्च को थी। उसी का निमंत्रण पत्र बांटकर वे गांव के एक युवक अभय के साथ काेसंबा से लौट रहे थे। रास्ते में एक अनजाने वाहन की चपेट में आ गए, जिससे अरविंद भाई की वहीं मौत हो गई। अभय को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया है। पुलिस अभी तक उक्त अज्ञात वाहन चालक की तलाश नहीं कर पाई है।



    Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
    3 मार्च को दो बेटियों की शादी थी।

 gstv

 aajkaaldaily

 kutchmitradaily

 gujarattoday

 kutchuday

 janmabhoomi

 loksansar

 iamgujarat

 gujarattimesusa

 chitralekha

 abhiyaanmagazine

 abpasmita.abplive

 gujaratsamachar